Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

जिस तरह मसला बने है अब खुदा भी, राम भी
दूर का मुददा नहीं इस मुल्क में कोहराम भी

मर रहे मुल्के-हिफाज़त में जो, वो गुमनाम है
बेचते जो देश उनका हो रहा है नाम भी

ये ख़ुशी है , हम ज़मीरों का न सौदा कर सके
अब विदा दुनिया से चाहे, हो चले नाकाम भी

ये जुबाँ, कुछ लफ्ज़ औ लहज़े -अदा बस आपकी
है बना देती महज सददाम भी, खैय्याम भी

भीड़ मयखाने में है गर तो गिलसें तोड़ दो
बात साकी तक तो पहुचें, हसरतों के ज़ाम भी

गर बनाना जानते है , तो मिटा सकते भी हैं
ऐ निजामों , हो न जाना, तुम कहीं नीलाम भी

गिर नज़र में खुद की, तेरी , आँख में ऊँचा उठूँ
है हरामों में हमें फिर , जो लूँ तेरा नाम भी

सेक्स टी वी और अख़बारों में है छाया हुआ
संत अब देखो लगे होने हैं आशाराम भी
——-रविन्द्र श्रीवास्तव——-

232 Views
You may also like:
खामोशी
Anamika Singh
'बंधन'
Godambari Negi
* हे सखी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आहट को पहचान...
मनोज कर्ण
क्या हाल है आजकल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Memories in brain
Buddha Prakash
"लाड़ली रानू"
Dr Meenu Poonia
ये वतन हमारा है
Dr fauzia Naseem shad
■ काव्यात्मक विचार
*प्रणय प्रभात*
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
एक तुम्हारे होने से...!!
Kanchan Khanna
तू नही तो तेरी तस्वीर तो है
Ram Krishan Rastogi
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️थोडा रूमानी हो जाते...✍️
'अशांत' शेखर
Rose
Seema 'Tu hai na'
माता प्राकट्य
Dr. Sunita Singh
यारी
अमरेश मिश्र 'सरल'
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नियति से प्रतिकार लो
Saraswati Bajpai
*राज्य अद्भुत अग्रोहा ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
भोजपुरी ग़ज़ल
Mahendra Narayan
ज़माना कहता है हर बात ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
अवाम
Shekhar Chandra Mitra
त्याग
श्री रमण 'श्रीपद्'
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
No one plans to fall in Love
Shivkumar Bilagrami
हम भी नज़ीर बन जाते।
Taj Mohammad
क्यों कहाँ चल दिये
gurudeenverma198
पढ़ना और पढ़ाना है
kumar Deepak "Mani"
Loading...