Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

जिस तरह मसला बने है अब खुदा भी, राम भी
दूर का मुददा नहीं इस मुल्क में कोहराम भी

मर रहे मुल्के-हिफाज़त में जो, वो गुमनाम है
बेचते जो देश उनका हो रहा है नाम भी

ये ख़ुशी है , हम ज़मीरों का न सौदा कर सके
अब विदा दुनिया से चाहे, हो चले नाकाम भी

ये जुबाँ, कुछ लफ्ज़ औ लहज़े -अदा बस आपकी
है बना देती महज सददाम भी, खैय्याम भी

भीड़ मयखाने में है गर तो गिलसें तोड़ दो
बात साकी तक तो पहुचें, हसरतों के ज़ाम भी

गर बनाना जानते है , तो मिटा सकते भी हैं
ऐ निजामों , हो न जाना, तुम कहीं नीलाम भी

गिर नज़र में खुद की, तेरी , आँख में ऊँचा उठूँ
है हरामों में हमें फिर , जो लूँ तेरा नाम भी

सेक्स टी वी और अख़बारों में है छाया हुआ
संत अब देखो लगे होने हैं आशाराम भी
——-रविन्द्र श्रीवास्तव——-

295 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ आज तक की गणना के अनुसार।
■ आज तक की गणना के अनुसार।
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
अजीब मानसिक दौर है
अजीब मानसिक दौर है
पूर्वार्थ
आधा - आधा
आधा - आधा
Shaily
एक ही दिन में पढ़ लोगे
एक ही दिन में पढ़ लोगे
हिमांशु Kulshrestha
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐प्रेम कौतुक-158💐
💐प्रेम कौतुक-158💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नरभक्षी_गिद्ध
नरभक्षी_गिद्ध
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
The Third Pillar
The Third Pillar
Rakmish Sultanpuri
*अपयश हार मुसीबतें , समझो गहरे मित्र (कुंडलिया)*
*अपयश हार मुसीबतें , समझो गहरे मित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
Shyam Pandey
पहले की भारतीय सेना
पहले की भारतीय सेना
Satish Srijan
-आगे ही है बढ़ना
-आगे ही है बढ़ना
Seema gupta,Alwar
जीवन की सरलता
जीवन की सरलता
Dr fauzia Naseem shad
माता की महिमा
माता की महिमा
SHAILESH MOHAN
बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह
बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह
The_dk_poetry
हिंदी दोहे बिषय- विकार
हिंदी दोहे बिषय- विकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
Dr Archana Gupta
एक अलग ही दुनिया
एक अलग ही दुनिया
Sangeeta Beniwal
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
Johnny Ahmed 'क़ैस'
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
Rahul Smit
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
gurudeenverma198
Writing Challenge- त्याग (Sacrifice)
Writing Challenge- त्याग (Sacrifice)
Sahityapedia
वो सब खुश नसीब है
वो सब खुश नसीब है
शिव प्रताप लोधी
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तथागत प्रीत तुम्हारी है
तथागत प्रीत तुम्हारी है
Buddha Prakash
Loading...