Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

ऐ ख़ुदा हमको तिरी रहमत सुहानी चाहिए
हर जगह बस तेरी ही सूरत नुरानी चाहिए

मैं इबादत करके’ माँगू तुझसे बस इतनी दुआ
आदमी में आदमी जैसी निशानी चाहिए

ख़त्म हो खुदगर्ज़ियाँ ये बस मुहब्बत ही रहे
मुझको हर इक चेहरे पे बस शादमानी चाहिये

मतलबी बुनियाद जिनकीवो झुकाते है नज़र
मुझको हर रिश्ता सदा ही बस रुहानी चाहिए

कारवाँ लेकर चले हम भी दिले जज़्बात का
मेरा दिल जो कर दे रौशन वो कहानी चाहिए

याद आए मुझको’ दादी की कहानी हर घड़ी
आज भी मुझको वही परियों की रानी चाहिए

दिल यही माँगे दुआ जज़्बाती तेरी चाह में
ख़ुश रहे तू हर जगह बस खुशगुमानी चाहिए
जज़्बाती

1 Like · 1 Comment · 428 Views
You may also like:
गंतव्यों पर पहुँच कर भी, यात्रा उसकी नहीं थमती है।
Manisha Manjari
👌स्वयंभू सर्वशक्तिमान👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
✍️हर लड़की के दिल में ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
12
Dr Archana Gupta
अनामिका के विचार
Anamika Singh
भक्तिरेव गरीयसी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*चिड़िया रानी कैसे तुम उड़ती हो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बहुत ही महंगा है ये शौक ज़िंदगी के लिए।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पिता
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
संताप
ओनिका सेतिया 'अनु '
छोटे गाँव का लड़का था मैं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
जाति है कि जाती नहीं
Shekhar Chandra Mitra
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
ये जिन्दगी एक तराना है।
Taj Mohammad
भोजन
लक्ष्मी सिंह
दुआ
Alok Saxena
शुद्धिकरण
Kanchan Khanna
'तुम भी ना'
Rashmi Sanjay
मनुआँ काला, भैंस-सा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
फ़नकार समझते हैं Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
द्रौपदी चीर हरण
Ravi Yadav
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
✍️समय की उलझन✍️
'अशांत' शेखर
पिता
Shankar J aanjna
अमर शहीद भगत सिंह का जन्मदिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तोरी ढिल्या देहें चाल ( बुन्देली ,लोक गीत)
कृष्णकांत गुर्जर
माटी
Utsav Kumar Aarya
■ तेवरी / कक्का
*प्रणय प्रभात*
Loading...