Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2017 · 1 min read

ग़ज़ल

खिडकी से आती धूप दिवार पर इस कदर फैलती है
चारों तरफ़ हमारे रिश्ते की खुश्बू जैसे रोज़ फैलती है

चेहरे पे खुशियाँ लेकर आते जाते रहते हैं दोस्त बनकर
वोही चेहरों पे न जाने कितने चेहरे नज़र आने लगते हैं

हर दिन घर की चौखट पर पैर जमाएं खड़े हो जाते थे
दूर तलक देखता हूँ सरेआम वो पीठ ही नज़र आती है

अब किसी चेहरे से मेरा कोई वास्ता ही नहीं रहा अमुमन
प्यार के नाम मज़हब को जोडकर छुरियाँ घोंपता रहता है

– पंकज त्रिवेदी

300 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
Dr Archana Gupta
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
खामोशियां पढ़ने का हुनर हो
खामोशियां पढ़ने का हुनर हो
Amit Pandey
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
surenderpal vaidya
2511.पूर्णिका
2511.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
😢 अच्छे दिन....?
😢 अच्छे दिन....?
*Author प्रणय प्रभात*
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
तीजनबाई
तीजनबाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
जय लगन कुमार हैप्पी
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
"कष्ट"
Dr. Kishan tandon kranti
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
हाइकु
हाइकु
Prakash Chandra
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
अन्नदाता किसान
अन्नदाता किसान
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
अभिनव अदम्य
Nothing is easier in life than
Nothing is easier in life than "easy words"
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कहां से लाऊं शब्द वो
कहां से लाऊं शब्द वो
Seema gupta,Alwar
जीवन से तम को दूर करो
जीवन से तम को दूर करो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
डॉ० रोहित कौशिक
कांटें हों कैक्टस  के
कांटें हों कैक्टस के
Atul "Krishn"
माना कि मेरे इस कारवें के साथ कोई भीड़ नहीं है |
माना कि मेरे इस कारवें के साथ कोई भीड़ नहीं है |
Jitendra kumar
मनुष्य की महत्ता
मनुष्य की महत्ता
ओंकार मिश्र
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मर्यादा और राम
मर्यादा और राम
Dr Parveen Thakur
आपको हम
आपको हम
Dr fauzia Naseem shad
*किसान*
*किसान*
Dr. Priya Gupta
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
पूर्वार्थ
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...