Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2021 · 1 min read

ग़ज़ल

इस तरह हमसे करो पर्दा अगर लगता है
जिस तरह मौत से अपनी तुम्हें डर लगता है

ख़ैर कितनी भी करूँ पर उन्हें शर लगता है
शर मगर उनका हमे हुस्न-ए-नज़र लगता है

अपने माथे से हटाओ जो शिकन है वरना
धुँदला धुँदला सा जो लिक्खा है ख़बर लगता है

हमने सीखा नही दुनिया से ख़ुशामद करना
चापलूसी भी करो तुम तो हुनर लगता है

संग-ए-मरमर की तरह खुद को नुमाया मत कर
गर तुझे ताज-महल मौत का घर लगता है

कोई बचपन मे ‘फुज़ैल’ बात जो घर कर जाये
उम्र भर यानी उसी बात से डर लगता है

©फुज़ैल सरधनवी

2 Likes · 1 Comment · 348 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* माई गंगा *
* माई गंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रतिशोध
प्रतिशोध
Shyam Sundar Subramanian
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
खाली मन...... एक सच
खाली मन...... एक सच
Neeraj Agarwal
वाणी से उबल रहा पाणि💪
वाणी से उबल रहा पाणि💪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
देश अनेक
देश अनेक
Santosh Shrivastava
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
Keshav kishor Kumar
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
💐प्रेम कौतुक-157💐
💐प्रेम कौतुक-157💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
VEDANTA PATEL
माँ वो है जिसे
माँ वो है जिसे
shabina. Naaz
कुछ बात थी
कुछ बात थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
Neelam Sharma
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेटी
बेटी
Akash Yadav
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
Satish Srijan
वीरगति सैनिक
वीरगति सैनिक
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Hamko Chor Batane Wale - Poet Anurag Ankur's Ghazal - कवि अनुराग अंकुर की गजल
Hamko Chor Batane Wale - Poet Anurag Ankur's Ghazal - कवि अनुराग अंकुर की गजल
Anurag Ankur
वफा से वफादारो को पहचानो
वफा से वफादारो को पहचानो
goutam shaw
बादल का रौद्र रूप
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
*Author प्रणय प्रभात*
लहसुन
लहसुन
आकाश महेशपुरी
*कलम जादू भरी जग में, चमत्कारी कहाती है (मुक्तक)*
*कलम जादू भरी जग में, चमत्कारी कहाती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जिंदगी उधेड़बुन का नाम नहीं है
जिंदगी उधेड़बुन का नाम नहीं है
कवि दीपक बवेजा
"रामनवमी पर्व 2023"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"उड़ान"
Yogendra Chaturwedi
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
Loading...