Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (मुसीबत यार अच्छी है)

मुसीबत यार अच्छी है पता तो यार चलता है
कैसे कौन कब कितना, रंग अपना बदलता है

किसकी कुर्बानी को किसने याद रक्खा है दुनिया में
जलता तेल और बाती है कहते दीपक जलता है

मुहब्बत को बयाँ करना किसके यार बश में है
उसकी यादों का दिया अपने दिल में यार जलता है

बैसे जीवन के सफर में तो कितने लोग मिलते हैं
किसी चेहरे पे अपना दिल अभी भी तो मचलता है

समय के साथ बहने का मजा कुछ और है यारों
रिश्तें भी बदल जाते समय जब भी बदलता है

मुसीबत यार अच्छी है पता तो यार चलता है
कैसे कौन कब कितना, रंग अपना बदलता है

ग़ज़ल (मुसीबत यार अच्छी है)
मदन मोहन सक्सेना

232 Views
You may also like:
अंतिमदर्शन
विनोद सिन्हा "सुदामा"
** थोड़े मे **
Swami Ganganiya
गांठे खोलने वाला शिक्षक-सुकरात
Shekhar Chandra Mitra
"मेरी कहानी"
Lohit Tamta
आया शरद पूर्णिमा की महारास
लक्ष्मी सिंह
✍️अहंकार
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
हिंदी दिवस
Aditya Prakash
बात किसी और नाम किसी और का
Anurag pandey
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
तन्हाँ महफिल को सजाऊँ कैसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
कुछ उजले ख्वाब देखे है।
Taj Mohammad
Dear Mango...!!
Kanchan Khanna
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
Shyam kumar kolare
*यात्रा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️खंज़र चलाते है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
कौन बोलेगा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
【31】*!* तूफानों से क्या ड़रना? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जान से प्यारा तिरंगा
डॉ. शिव लहरी
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
परिवार
Abhishek Pandey Abhi
RV Singh
Mohd Talib
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
Writing Challenge- भूख (Hunger)
Sahityapedia
बहुत कुछ कहना है
Ankita
चिड़िया और जाल
DESH RAJ
जिंदगी की तरह
shabina. Naaz
Loading...