Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2018 · 1 min read

#ग़ज़ल-49

दीद तेरा हो अगर तो जी उठेंगे यार
प्यार तेरा जीत मेरी ना मिला तो हार/1

ज़िंदगी में मीत नहीं तो गीत है बेकार
सीप का मोती बिना सजता नहीं आधार/2

दो दिलों का साथ हो तो हार में भी जीत
फूल ख़ुशबू जब मिलें तो हँस उठे गुलज़ार/3

प्यार सच है ज़िंदगी में भूलना मत बात
प्यार से ही प्यार का सजता सदा है सार/4

आज सारे ग़म गिले तू भूलके चल साथ
हो जहां रोशन हमारा खिल उठे घर-बार/5

है ख़ुदा के नाम जैसी प्रीत ‘प्रीतम’ जान
नेक बंदा वो जहां में साथ जिसके प्यार/6

-आर.एस.’प्रीतम’

1 Like · 184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
Phool gufran
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कभी- कभी
कभी- कभी
Harish Chandra Pande
मुहब्बत से दामन , तेरा  भर  रही है ,
मुहब्बत से दामन , तेरा भर रही है ,
Neelofar Khan
यादें
यादें
Dr. Rajeev Jain
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Ram Krishan Rastogi
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
Gouri tiwari
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*सादगी के हमारे प्रयोग (हास्य व्यंग्य )*
*सादगी के हमारे प्रयोग (हास्य व्यंग्य )*
Ravi Prakash
अनजान राहों का सफर
अनजान राहों का सफर
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
किसान
किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कब मैंने चाहा सजन
कब मैंने चाहा सजन
लक्ष्मी सिंह
तोड़ डालो ये परम्परा
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD CHAUHAN
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
जयंत (कौआ) के कथा।
जयंत (कौआ) के कथा।
Acharya Rama Nand Mandal
तुम्हारी जय जय चौकीदार
तुम्हारी जय जय चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
Dr Manju Saini
एक खत जिंदगी के नाम
एक खत जिंदगी के नाम
पूर्वार्थ
प्रेमी-प्रेमिकाओं का बिछड़ना, कोई नई बात तो नहीं
प्रेमी-प्रेमिकाओं का बिछड़ना, कोई नई बात तो नहीं
The_dk_poetry
पदोन्नति
पदोन्नति
Dr. Kishan tandon kranti
2782. *पूर्णिका*
2782. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यूं किसने दस्तक दी है दिल की सियासत पर,
यूं किसने दस्तक दी है दिल की सियासत पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
DrLakshman Jha Parimal
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...