Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (जिंदगी का ये सफ़र )

कल तलक लगता था हमको शहर ये जाना हुआ
इक शक्श अब दीखता नहीं तो शहर ये बीरान है

बीती उम्र कुछ इस तरह की खुद से हम न मिल सके
जिंदगी का ये सफ़र क्यों इस कदर अनजान है

गर कहोगें दिन को दिन तो लोग जानेगें गुनाह
अब आज के इस दौर में दीखते नहीं इन्सान है

इक दर्द का एहसास हमको हर समय मिलता रहा
ये वक़्त की साजिश है या फिर वक़्त का एहसान है

गैर बनकर पेश आते, वक़्त पर अपने ही लोग
अपनो की पहचान करना अब नहीं आसान है

प्यासा पथिक और पास में बहता समुन्द्र देखकर
जिंदगी क्या है मदन , कुछ कुछ हुयी पहचान है

मदन मोहन सक्सेना

308 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दी
हिन्दी
Bodhisatva kastooriya
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
"तुम्हारे शिकवों का अंत चाहता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
मेरे दिल की गहराई में,
मेरे दिल की गहराई में,
Dr. Man Mohan Krishna
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
पूर्वार्थ
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
Kanchan Khanna
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
Rajesh Kumar Arjun
औरत एक अहिल्या
औरत एक अहिल्या
Surinder blackpen
ग़म-ए-जानां से ग़म-ए-दौरां तक
ग़म-ए-जानां से ग़म-ए-दौरां तक
Shekhar Chandra Mitra
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
* संस्कार *
* संस्कार *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
कुछ उत्तम विचार.............
कुछ उत्तम विचार.............
विमला महरिया मौज
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह की धर्मनिरपेक्षता"
Pravesh Shinde
वृद्धाश्रम इस समस्या का
वृद्धाश्रम इस समस्या का
Dr fauzia Naseem shad
✴️✳️हर्ज़ नहीं है मुख़्तसर मुलाकात पर✳️✴️
✴️✳️हर्ज़ नहीं है मुख़्तसर मुलाकात पर✳️✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
जब याद मैं आऊंँ...
जब याद मैं आऊंँ...
Ranjana Verma
कर रही हूँ इंतज़ार
कर रही हूँ इंतज़ार
Rashmi Ranjan
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
डॉ० रोहित कौशिक
शिक्षित बेटियां मजबूत समाज
शिक्षित बेटियां मजबूत समाज
श्याम सिंह बिष्ट
Calling with smartphone !
Calling with smartphone !
Buddha Prakash
రామయ్య మా రామయ్య
రామయ్య మా రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*किसकी रहती याद (कुंडलिया)*
*किसकी रहती याद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बेडी परतंत्रता की 🙏
बेडी परतंत्रता की 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रंगरेज कहां है
रंगरेज कहां है
Shiva Awasthi
".... कौन है "
Aarti sirsat
जिंदगी कि सच्चाई
जिंदगी कि सच्चाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ आज का विचार-
■ आज का विचार-
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...