Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल (जिंदगी का ये सफ़र )

कल तलक लगता था हमको शहर ये जाना हुआ
इक शक्श अब दीखता नहीं तो शहर ये बीरान है

बीती उम्र कुछ इस तरह की खुद से हम न मिल सके
जिंदगी का ये सफ़र क्यों इस कदर अनजान है

गर कहोगें दिन को दिन तो लोग जानेगें गुनाह
अब आज के इस दौर में दीखते नहीं इन्सान है

इक दर्द का एहसास हमको हर समय मिलता रहा
ये वक़्त की साजिश है या फिर वक़्त का एहसान है

गैर बनकर पेश आते, वक़्त पर अपने ही लोग
अपनो की पहचान करना अब नहीं आसान है

प्यासा पथिक और पास में बहता समुन्द्र देखकर
जिंदगी क्या है मदन , कुछ कुछ हुयी पहचान है

मदन मोहन सक्सेना

171 Views
You may also like:
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H. Amin
✍️बुनियाद✍️
"अशांत" शेखर
जिंदगी का मशवरा
Krishan Singh
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गुम होता अस्तित्व भाभी, दामाद, जीजा जी, पुत्र वधू का
Dr Meenu Poonia
ईश्वर के संकेत
Dr. Alpa H. Amin
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H. Amin
कविता - राह नहीं बदलूगां
Chatarsingh Gehlot
दोस्ती अपनी जगह है आशिकी अपनी जगह
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
छंदों में मात्राओं का खेल
Subhash Singhai
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
अल्फाज़ ए ताज भाग-3
Taj Mohammad
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
Is It Possible
Manisha Manjari
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
हमने प्यार को छोड़ दिया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
फर्ज अपना-अपना
Prabhudayal Raniwal
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
*अग्रसेन भागवत के महान गायक आचार्य विष्णु दास शास्त्री :...
Ravi Prakash
कैसी है ये पीर पराई
VINOD KUMAR CHAUHAN
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H. Amin
Loading...