Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (जिंदगी का ये सफ़र )

कल तलक लगता था हमको शहर ये जाना हुआ
इक शक्श अब दीखता नहीं तो शहर ये बीरान है

बीती उम्र कुछ इस तरह की खुद से हम न मिल सके
जिंदगी का ये सफ़र क्यों इस कदर अनजान है

गर कहोगें दिन को दिन तो लोग जानेगें गुनाह
अब आज के इस दौर में दीखते नहीं इन्सान है

इक दर्द का एहसास हमको हर समय मिलता रहा
ये वक़्त की साजिश है या फिर वक़्त का एहसान है

गैर बनकर पेश आते, वक़्त पर अपने ही लोग
अपनो की पहचान करना अब नहीं आसान है

प्यासा पथिक और पास में बहता समुन्द्र देखकर
जिंदगी क्या है मदन , कुछ कुछ हुयी पहचान है

मदन मोहन सक्सेना

215 Views
You may also like:
सांसें कम पड़ गई
Shriyansh Gupta
दुल्हों का बाजार
मृत्युंजय कुमार
कुछ भी तो ठीक नहीं
Shekhar Chandra Mitra
खेल-कूद
AMRESH KUMAR VERMA
जल जीवन - जल प्रलय
Rj Anand Prajapati
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
अपनों से न गै़रों से कोई भी गिला रखना
Shivkumar Bilagrami
✍️वो कहा है..?✍️
'अशांत' शेखर
देखो-देखो आया सावन।
लक्ष्मी सिंह
प्रिय आदर्श शिक्षक
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
कोई दीपक ऐंसा भी हो / (मुक्तक)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ चंद्र घंटा
Vandana Namdev
पिता
Mamta Rani
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
काम का बोझ
जगदीश लववंशी
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
# किताब ....
Chinta netam " मन "
तू बोल तो जानूं
Harshvardhan "आवारा"
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
★ जो मज़ा तेरी कातिल नजरों के नजारों में है।...
★ IPS KAMAL THAKUR ★
आरज़ू
shabina. Naaz
घर
Saraswati Bajpai
Corporate Mantra of Politics
AJAY AMITABH SUMAN
"बिहार में शैक्षिक नवाचार"
पंकज कुमार कर्ण
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह की धर्मनिरपेक्षता"
Pravesh Shinde
*कृपया पीकदान में थूकें(बाल कविता)*
Ravi Prakash
काली रातों ने ओढ़ी ली खामोशी की चादर है।
Taj Mohammad
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कृष्णा आप ही...
Seema 'Tu hai na'
Loading...