Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2020 · 1 min read

ग़ज़ल- गमों की रात है काली घना अंधेरा है..

ग़मों की रात है काली घना अंधेरा है।
इसी के बाद ख़ुशी का नया सबेरा है।।

ये तेरी भूल है नादा कि चाँँद तेरा है।
हरेक बाम़ पे अब चाँद का बसेरा है।।

हमारी कौन सुनेगा भला ज़माने में।
दिलों के भाव को कागज़ पे ही उकेरा है।।

हुआ हूँ इश्क़ में अंधा न दिख रहा मुझको।
दिखाई देता मुझे अक्स़ इक़ तेरा है।।

किये जा लाख जतन ‘कल्प’ दूर रहने के।
गली गली में तू बदनाम नाम मेरा है।।

✍? अरविंद राजपूत ‘कल्प’
1212 1122 1212 22

2 Likes · 242 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सूरज को
सूरज को
surenderpal vaidya
सच्चाई का रास्ता
सच्चाई का रास्ता
Sunil Maheshwari
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
गुमनाम 'बाबा'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गैरो को कोई अपने बना कर तो देख ले
गैरो को कोई अपने बना कर तो देख ले
कृष्णकांत गुर्जर
The best time to learn.
The best time to learn.
पूर्वार्थ
शिक्षित लोग
शिक्षित लोग
Raju Gajbhiye
समय
समय
Swami Ganganiya
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Dr. Upasana Pandey
सच कहा था किसी ने की आँखें बहुत बड़ी छलिया होती हैं,
सच कहा था किसी ने की आँखें बहुत बड़ी छलिया होती हैं,
Sukoon
Hajipur
Hajipur
Hajipur
औरतें ऐसी ही होती हैं
औरतें ऐसी ही होती हैं
Mamta Singh Devaa
*दानवीर व्यापार-शिरोमणि, भामाशाह प्रणाम है (गीत)*
*दानवीर व्यापार-शिरोमणि, भामाशाह प्रणाम है (गीत)*
Ravi Prakash
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
स्वाभिमानी किसान
स्वाभिमानी किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
वेदनामृत
वेदनामृत
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
आ अब लौट चले
आ अब लौट चले
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
2993.*पूर्णिका*
2993.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
The_dk_poetry
कीमत बढ़ानी है
कीमत बढ़ानी है
Roopali Sharma
पत्नी की पहचान
पत्नी की पहचान
Pratibha Pandey
ओ लहर बहती रहो …
ओ लहर बहती रहो …
Rekha Drolia
To be Invincible,
To be Invincible,
Dhriti Mishra
कहां  गए  वे   खद्दर  धारी  आंसू   सदा   बहाने  वाले।
कहां गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
कविता : चंद्रिका
कविता : चंद्रिका
Sushila joshi
कुछ टूट गया
कुछ टूट गया
Dr fauzia Naseem shad
"रंग भर जाऊँ"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...