Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (किस को गैर कहदे हम)

ग़ज़ल (किस को गैर कहदे हम)

दुनिया में जिधर देखो हजारो रास्ते दीखते
मंजिल जिनसे मिल जाए बह रास्ते नहीं मिलते

किस को गैर कहदे हम और किसको मान ले अपना
मिलते हाथ सबसे हैं दिल से दिल नहीं मिलते

करी थी प्यार की बाते कभी हमने भी फूलों से
शिकायत सबको उनसे है कि उनके लब नहीं हिलते

ज़माने की हकीकत को समझ जाओ तो अच्छा है
ख्वावों में भी टूटे दिल सीने पर नहीं सिलते

कहने को तो ख्वावों में हम उनके साथ रहते हैं
मुश्किल अपनी ये है कि हकीक़त में नहीं मिलते

ग़ज़ल (किस को गैर कहदे हम)
मदन मोहन सक्सेना

404 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙏😊🙏
🙏😊🙏
Neelam Sharma
"संवाद"
Dr. Kishan tandon kranti
अश्लील साहित्य
अश्लील साहित्य
Sanjay ' शून्य'
वक़्त के साथ वो
वक़्त के साथ वो
Dr fauzia Naseem shad
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अगर आप सही हैं तो खुद को साबित करने के लिए ताकत क्यों लगानी
अगर आप सही हैं तो खुद को साबित करने के लिए ताकत क्यों लगानी
Seema Verma
कारण कोई बतायेगा
कारण कोई बतायेगा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जो गुजर गया
जो गुजर गया
ruby kumari
कविता क़िरदार है
कविता क़िरदार है
Satish Srijan
ना कोई हिन्दू गलत है,
ना कोई हिन्दू गलत है,
SPK Sachin Lodhi
*तू ही  पूजा  तू ही खुदा*
*तू ही पूजा तू ही खुदा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
छन्द- सम वर्णिक छन्द
छन्द- सम वर्णिक छन्द " कीर्ति "
rekha mohan
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
राम का आधुनिक वनवास
राम का आधुनिक वनवास
Harinarayan Tanha
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
#कुछ खामियां
#कुछ खामियां
Amulyaa Ratan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
💐प्रेम कौतुक-230💐
💐प्रेम कौतुक-230💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सागर की ओर
सागर की ओर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
वक़्त का सबक़
वक़्त का सबक़
Shekhar Chandra Mitra
#परिहास
#परिहास
*Author प्रणय प्रभात*
कहना तो बहुत कुछ है
कहना तो बहुत कुछ है
पूर्वार्थ
जाने  कौन  कहाँ  गए, सस्ते के वह ठाठ (कुंडलिया)
जाने कौन कहाँ गए, सस्ते के वह ठाठ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
न पाने का गम अक्सर होता है
न पाने का गम अक्सर होता है
Kushal Patel
मेरा नसीब
मेरा नसीब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रेम लौटता है धीमे से
प्रेम लौटता है धीमे से
Surinder blackpen
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
हर बार मेरी ही किस्मत क्यो धोखा दे जाती हैं,
हर बार मेरी ही किस्मत क्यो धोखा दे जाती हैं,
Vishal babu (vishu)
Loading...