Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (किस को गैर कहदे हम)

ग़ज़ल (किस को गैर कहदे हम)

दुनिया में जिधर देखो हजारो रास्ते दीखते
मंजिल जिनसे मिल जाए बह रास्ते नहीं मिलते

किस को गैर कहदे हम और किसको मान ले अपना
मिलते हाथ सबसे हैं दिल से दिल नहीं मिलते

करी थी प्यार की बाते कभी हमने भी फूलों से
शिकायत सबको उनसे है कि उनके लब नहीं हिलते

ज़माने की हकीकत को समझ जाओ तो अच्छा है
ख्वावों में भी टूटे दिल सीने पर नहीं सिलते

कहने को तो ख्वावों में हम उनके साथ रहते हैं
मुश्किल अपनी ये है कि हकीक़त में नहीं मिलते

ग़ज़ल (किस को गैर कहदे हम)
मदन मोहन सक्सेना

344 Views
You may also like:
#अतिथि_कब_जाओगे??
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जान का नया बवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
आ.अ.शि.संघ ( शिक्षक की पीड़ा)
Dhananjay Verma
विवेकानंद जी के जन्मदिन पर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मंथरा के ऋणी....श्री राम
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
✍️13/07 (तेरा साथ)✍️
'अशांत' शेखर
"कुछ अधूरे सपने"
MSW Sunil SainiCENA
निगाहें
जय लगन कुमार हैप्पी
क़ीमत
Dr fauzia Naseem shad
नायक देवेन्द्र प्रताप सिंह
नूरफातिमा खातून नूरी
प्रतिभाओं को मत काटो,आरक्षण की तलवारों से
Ram Krishan Rastogi
■ एक गुज़ारिश
*Author प्रणय प्रभात*
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
हो तुम किसी मंदिर की पूजा सी
Rj Anand Prajapati
संस्कृति का दंश
Shekhar Chandra Mitra
मेरा आजादी का भाषण
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
अपना अपना आवेश....
Ranjit Tiwari
*सरकार तुम्हारा क्या कहना (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
மர்மம்
Shyam Sundar Subramanian
गर जा रहे तो जाकर इक बार देख लेना।
सत्य कुमार प्रेमी
ये हवाएँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
उसका हर झूठ सनद है, हद है
Anis Shah
आदमी तनहा दिखाई दे
Dr. Sunita Singh
शव
Sushil chauhan
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
बद्दुआ गरीबों की।
Taj Mohammad
भोजपुरी बिरह गीत
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
दिल चेहरा आईना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग्रहण
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...