Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

ग़ज़ल (किस को गैर कहदे हम)

ग़ज़ल (किस को गैर कहदे हम)

दुनिया में जिधर देखो हजारो रास्ते दीखते
मंजिल जिनसे मिल जाए बह रास्ते नहीं मिलते

किस को गैर कहदे हम और किसको मान ले अपना
मिलते हाथ सबसे हैं दिल से दिल नहीं मिलते

करी थी प्यार की बाते कभी हमने भी फूलों से
शिकायत सबको उनसे है कि उनके लब नहीं हिलते

ज़माने की हकीकत को समझ जाओ तो अच्छा है
ख्वावों में भी टूटे दिल सीने पर नहीं सिलते

कहने को तो ख्वावों में हम उनके साथ रहते हैं
मुश्किल अपनी ये है कि हकीक़त में नहीं मिलते

ग़ज़ल (किस को गैर कहदे हम)
मदन मोहन सक्सेना

281 Views
You may also like:
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
अधुरा सपना
Anamika Singh
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
💔💔...broken
Palak Shreya
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
Loading...