Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2017 · 1 min read

ख़ुशियों की शमां

ख़ुशियों की भी एक शमां देखी है हमने जहां,
मुसीबतों से कोई वास्ता नहीं मिलता ॥
इश्क़ का जुनून हुआ है हावी इस कदर कि
अब वफा को बेवफाईयों का रास्ता नहीं मिलता ॥

?प्रमोद?
दिनांक -03-03-2017

Language: Hindi
211 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
DrLakshman Jha Parimal
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
हिन्दी दोहे- चांदी
हिन्दी दोहे- चांदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
Jitendra Chhonkar
"लोभ"
Dr. Kishan tandon kranti
आज की जरूरत~
आज की जरूरत~
दिनेश एल० "जैहिंद"
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Lohit Tamta
Wakt ke pahredar
Wakt ke pahredar
Sakshi Tripathi
चीरहरण
चीरहरण
Acharya Rama Nand Mandal
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Neeraj Agarwal
_______ सुविचार ________
_______ सुविचार ________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मेरे देश की मिट्टी
मेरे देश की मिट्टी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तपन ने सबको छुआ है / गर्मी का नवगीत
तपन ने सबको छुआ है / गर्मी का नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
होके रुकसत कहा जाओगे
होके रुकसत कहा जाओगे
Awneesh kumar
*भाता है सब को सदा ,पर्वत का हिमपात (कुंडलिया)*
*भाता है सब को सदा ,पर्वत का हिमपात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जय हो माई।
जय हो माई।
Rj Anand Prajapati
23/32.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/32.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
- वह मूल्यवान धन -
- वह मूल्यवान धन -
Raju Gajbhiye
मुझे प्यार हुआ था
मुझे प्यार हुआ था
Nishant Kumar Mishra
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
Atul "Krishn"
वो ज़माने चले गए
वो ज़माने चले गए
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
भारत का अतीत
भारत का अतीत
Anup kanheri
सीख
सीख
Adha Deshwal
#वर_दक्षिण (दहेज)
#वर_दक्षिण (दहेज)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
■ संवेदनशील मन अतीत को कभी विस्मृत नहीं करता। उसमें और व्याव
■ संवेदनशील मन अतीत को कभी विस्मृत नहीं करता। उसमें और व्याव
*प्रणय प्रभात*
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
विमला महरिया मौज
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बदल चुका क्या समय का लय?
बदल चुका क्या समय का लय?
Buddha Prakash
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (4)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (4)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...