Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

17. 🕉

ॐ आदि है ऊँ अन्त है ॐ जगत का पालनहार ।
ॐ सृष्टि का मूल रचयिता ॐ सृष्टि का है संहार ।।

ॐ धरा है ॐ गगन है ॐ व्योम का है विस्तार ।
ऊँ वायु है ॐ अग्नि है ऊँ सिन्धु है अपरम्पार ।।

ॐ अनन्त है ॐ अखण्ड है और यही अविनाशी है।
ब्रह्मा विष्णु और महेश तीनों का ये अध्यासी है ।।

ॐ स्वयं ही बीज मंत्र है एकाक्षर कहलाता है ।
ॐ ॐ जो जीव रटे खुद ओंकार हो जाता है ।।
ऊँ ऊँ ऊँ ऊँ ऊँ
ऊँ ऊँ ऊँ
ऊँ
प्रकाश चंद्र , लखनऊ
IRPS (Retd)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Prakash Chandra
View all
You may also like:
*कविवर शिव कुमार चंदन* *(कुंडलिया)*
*कविवर शिव कुमार चंदन* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
एक ही पक्ष में जीवन जीना अलग बात है। एक बार ही सही अपने आयाम
एक ही पक्ष में जीवन जीना अलग बात है। एक बार ही सही अपने आयाम
पूर्वार्थ
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
Neelam Sharma
मिलेंगे इक रोज तसल्ली से हम दोनों
मिलेंगे इक रोज तसल्ली से हम दोनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ
नसीहत
नसीहत
Shivkumar Bilagrami
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Harish Chandra Pande
ज़िंदगी
ज़िंदगी
नन्दलाल सुथार "राही"
फकत है तमन्ना इतनी।
फकत है तमन्ना इतनी।
Taj Mohammad
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
🙅आम सूचना🙅
🙅आम सूचना🙅
*Author प्रणय प्रभात*
सियासी खेल
सियासी खेल
AmanTv Editor In Chief
तुमको खोकर
तुमको खोकर
Dr fauzia Naseem shad
उनकी तोहमत हैं, मैं उनका ऐतबार नहीं हूं।
उनकी तोहमत हैं, मैं उनका ऐतबार नहीं हूं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
द्रुत विलम्बित छंद (गणतंत्रता दिवस)-'प्यासा
द्रुत विलम्बित छंद (गणतंत्रता दिवस)-'प्यासा"
Vijay kumar Pandey
"धन्य प्रीत की रीत.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
22, *इन्सान बदल रहा*
22, *इन्सान बदल रहा*
Dr Shweta sood
अमर काव्य
अमर काव्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हम तो हैं प्रदेश में, क्या खबर हमको देश की
हम तो हैं प्रदेश में, क्या खबर हमको देश की
gurudeenverma198
शराब
शराब
RAKESH RAKESH
स्तुति - दीपक नीलपदम्
स्तुति - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
माँ का आँचल जिस दिन मुझसे छूट गया
माँ का आँचल जिस दिन मुझसे छूट गया
Shweta Soni
लाल बहादुर शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री
Kavita Chouhan
बेख़ौफ़ क़लम
बेख़ौफ़ क़लम
Shekhar Chandra Mitra
"लहर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...