Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

*होली : तीन बाल कुंडलियाँ* (बाल कविता)

होली : तीन बाल कुंडलियाँ (बाल कविता)
————————————-+————–
(1)चुहिया काँपी (कुंडलिया)
———————————————–+
हाथी दादा चल दिए , भरे सूँड में रंग
चुहिया काँपी लो हुआ ,आज रंग में भंग
आज रंग में भंग ,कहा मुझ पर मत डालो
पहलवान गजराज , रंग से मुझे बचा लो
कहते रवि कविराय ,कहा हाथी ने साथी !
जबरन कभी न रंग ,डालता सुन लो हाथी
————————————————
(2) महा – पिचकारी (कुंडलिया)
———-_———-+++++±——-_———
टोली होली की बनी ,हाथी के सँग खास
बोले पिचकारी – महा , देखो मेरे पास
देखो मेरे पास , सूँड फव्वारे जैसी
करती है बौछार , न समझो ऐसी – वैसी
कहते रवि कविराय ,धूम से मनती होली
हाथी राजा संग , सजी है जिस की टोली
—————————————————-
(3) पिचकारी – बाजार (कुंडलिया)
—————————————————-
पिचकारी से था सजा ,होली का बाजार
पिचकारी को बेचने , हर दुकान तैयार
हर दुकान तैयार , कहा हाथी से ले लो
होली के दिन साथ ,हाथ में लेकर खेलो
कहते रवि कविराय ,कहा गज ने आभारी
एक सूँड के साथ ,चलेंगी दो पिचकारी
—————————————————
रचयिता : रवि प्रकाश , बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

453 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हिन्दी पर नाज है !
हिन्दी पर नाज है !
Om Prakash Nautiyal
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
DrLakshman Jha Parimal
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
Shyam Pandey
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
डी. के. निवातिया
2897.*पूर्णिका*
2897.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Kavita
Kavita
shahab uddin shah kannauji
due to some reason or  excuses we keep busy in our life but
due to some reason or excuses we keep busy in our life but
पूर्वार्थ
बहता पानी
बहता पानी
साहिल
आग और पानी 🔥🌳
आग और पानी 🔥🌳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
"बढ़"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं भारत हूँ
मैं भारत हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
होली के दिन
होली के दिन
Ghanshyam Poddar
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
Rebel
Rebel
Shekhar Chandra Mitra
सूर्ययान आदित्य एल 1
सूर्ययान आदित्य एल 1
Mukesh Kumar Sonkar
मुझे आरज़ू नहीं मशहूर होने की
मुझे आरज़ू नहीं मशहूर होने की
Indu Singh
*मिलना जग में भाग्य से, मिलते अच्छे लोग (कुंडलिया)*
*मिलना जग में भाग्य से, मिलते अच्छे लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
नियति को यही मंजूर था
नियति को यही मंजूर था
Harminder Kaur
😊चुनावी साल😊
😊चुनावी साल😊
*Author प्रणय प्रभात*
एकाकीपन
एकाकीपन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
विकास शुक्ल
निश्छल प्रेम
निश्छल प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
देखा है।
देखा है।
Shriyansh Gupta
Loading...