Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 21, 2019 · 1 min read

होली का हुड़दंग

होली का हुड़दंग दिलों पर छाया है
रंगों का त्यौहार सुहाना आया है

काले पीले रंग पुते हैं चेहरे पर
देख हमीं को डरा हमारा साया है

कड़वी बातें सभी पुरानी भूल गए
गुझिया का मीठापन मन को भाया है

लदी बौर से महकी अमवा की डाली
गीत कोकिला ने आ मधुर सुनाया है

सभी रँगो के युग्म सुनाकर होली के
समां रँगीला सबने आज बनाया है

बैठा टेसू आज सभी के सर चढ़कर
रँग गुलाल अपने ऊपर इतराया है

भूल सको यदि बैर ‘अर्चना’ होली में
तब समझो त्यौहार समझ ये आया है

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद (उ प्र)

1 Comment · 235 Views
You may also like:
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
# दिल्ली होगा कब्जे में .....
Chinta netam " मन "
जग के पिता
DESH RAJ
*#सिरफिरा (#लघुकथा)*
Ravi Prakash
प्रीतम दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
कृष्णा आप ही...
Seema 'Tu haina'
मै वह हूँ।
Anamika Singh
किसी के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
मुट्ठी में ख्वाबों को दबा रखा है।
Taj Mohammad
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
द्विराष्ट्र सिद्धान्त के मुख्य खलनायक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
न कोई चाहत
Ray's Gupta
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
दिल ने किया था
Dr fauzia Naseem shad
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
सुबह - सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
मेरा साया
Anamika Singh
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
संविधान की गरिमा
Buddha Prakash
सजा मुस्कराने की क्या होगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Tnmy R Shandily
हे ईश्वर क्या मांगू
Anamika Singh
✍️मुमकिन था..!✍️
'अशांत' शेखर
ज़िंदा हूं मरा नहीं हूं।
Taj Mohammad
में और मेरी बुढ़िया
Ram Krishan Rastogi
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
Loading...