Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2022 · 1 min read

होता नहीं अब मुझसे

होता नहीं अब मुझसे, कि प्यार मैं तुमसे करुं।
तारीफ तेरी मैं करूं ,कि याद मैं तुमको करूं।।
होता नहीं अब मुझसे———————।।

मुझको नहीं यह पसंद, रोज झगड़ना मुझसे तेरा।
तुमको मनाना रोज ऐसे,सहन सितम मैं तेरे करूं।।
होता नहीं अब मुझसे——————–।।

तुमको दिखाने को सच मैंने, बहुत बहाये अपने आँसू।
बर्बाद बहुत हो गया मैं, बर्बाद और क्यों खुद को करूं।।
होता नहीं अब मुझसे——————–।।

छोड़ दिया मैंने तेरे लिए, अपना घर और अपने दोस्त।
जीना है मुझको तेरी तरफ, ना खुश खुद को क्यों करूं।।
होता नहीं अब मुझसे———————-।।

नहीं चाहिए कुछ भी तुमसे, मुझसे नहीं मतलब रखो।
खयाल नहीं जब तुमको मेरा, क्यों खयाल तेरा करूं।।
होता नहीं अब मुझसे——————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Comment · 193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
G27
G27
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
gurudeenverma198
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
surenderpal vaidya
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शिवकुमार बिलगरामी के बेहतरीन शे'र
शिवकुमार बिलगरामी के बेहतरीन शे'र
Shivkumar Bilagrami
Raksha Bandhan
Raksha Bandhan
Sidhartha Mishra
क्या यही ज़िंदगी है?
क्या यही ज़िंदगी है?
Shekhar Chandra Mitra
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आदमी आदमी से डरने लगा है
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD CHAUHAN
#व्यंग्य :--
#व्यंग्य :--
*Author प्रणय प्रभात*
24/237. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/237. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वर्तमान राजनीति
वर्तमान राजनीति
नवीन जोशी 'नवल'
किसी को इतना मत करीब आने दो
किसी को इतना मत करीब आने दो
कवि दीपक बवेजा
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
हम हँसते-हँसते रो बैठे
हम हँसते-हँसते रो बैठे
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
तिरंगा बोल रहा आसमान
तिरंगा बोल रहा आसमान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बहता पानी
बहता पानी
साहिल
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
Anand Kumar
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
जिससे एक मर्तबा प्रेम हो जाए
जिससे एक मर्तबा प्रेम हो जाए
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
_सुलेखा.
#जयहिंद
#जयहिंद
Rashmi Ranjan
*ये झरने गीत गाते हैं, सुनो संगीत पानी का (मुक्तक)*
*ये झरने गीत गाते हैं, सुनो संगीत पानी का (मुक्तक)*
Ravi Prakash
संगठग
संगठग
Sanjay ' शून्य'
हर रिश्ता
हर रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
सुबह की एक कप चाय,
सुबह की एक कप चाय,
Neerja Sharma
सच तो यही हैं।
सच तो यही हैं।
Neeraj Agarwal
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
मैं विवेक शून्य हूँ
मैं विवेक शून्य हूँ
संजय कुमार संजू
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...