Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

है नसीब अपना अपना-अपना

किसको क्या मिले हैं नसीब अपना-अपना
खुशियां मिले या गम है नसीब अपना-अपना
राहें जुदा-जुदा हैं सुख-दुख की जिंदगी में
मिले कौन सी डगर ये है नसीब अपना-अपना
कोई पूजता खुदा को कोई प्यार पूजता है
किसको खुदा मिले हैं ये नसीब अपना-अपना
सब कुछ दिया खुदा ने हर एक आदमी को
पत्थर मिला है या दिल है नसीब अपना-अपना
मत रखना चाह दिल में संतान के लिए तुम
बेटा मिले चाहे बिटीया है नसीब अपना-अपना
बेटा करें अय्याशी है बिटिया से नाम रोशन
दुनिया ही फिर कहेगी है नसीब अपना-अपना
संस्कार देना अच्छे अरे बेटा हो चाहे बिटिया
तकदीर जो भी बनाए है नसीब अपना अपना
हर पल ही देखते हैं सपने सब इस जहाॅ॑ में
होते हैं साकार किसके है नसीब अपना-अपना
‘V9द’ की नसीहत हरदम तुम याद रखना
अपने ही हाथों में है अरे नसीब अपना-अपना

2 Likes · 1 Comment · 57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
***दिल बहलाने  लाया हूँ***
***दिल बहलाने लाया हूँ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पातुक
पातुक
शांतिलाल सोनी
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
Dr Archana Gupta
एक तुम्हारे होने से...!!
एक तुम्हारे होने से...!!
Kanchan Khanna
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
Rajesh Kumar Kaurav
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
bharat gehlot
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ Rãthí
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ कामयाबी का नुस्खा...
■ कामयाबी का नुस्खा...
*Author प्रणय प्रभात*
चलते चलते
चलते चलते
ruby kumari
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
Phool gufran
वृक्ष लगाओ,
वृक्ष लगाओ,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
पहचान
पहचान
Seema gupta,Alwar
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
मृत्यु संबंध की
मृत्यु संबंध की
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
औरों की खुशी के लिए ।
औरों की खुशी के लिए ।
Buddha Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
Shashi kala vyas
" बंदिशें ज़ेल की "
Chunnu Lal Gupta
"पहले मुझे लगता था कि मैं बिका नही इसलिए सस्ता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
कोई नहीं करता है अब बुराई मेरी
कोई नहीं करता है अब बुराई मेरी
gurudeenverma198
मेरी परछाई बस मेरी निकली
मेरी परछाई बस मेरी निकली
Dr fauzia Naseem shad
खुशी की खुशी
खुशी की खुशी
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
The life is too small to love you,
The life is too small to love you,
Sakshi Tripathi
जीवन अगर आसान नहीं
जीवन अगर आसान नहीं
Dr.Rashmi Mishra
अलविदा नहीं
अलविदा नहीं
Pratibha Pandey
" दूरियां"
Pushpraj Anant
Loading...