Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 3 min read

हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी

हे विश्वनाथ महाराज नाथ, तुम सुन लो अरज हमारी
आतंक से दुनिया हलकान है, मार रहे नर नारी
मानवता है तार तार, करतूत है इनकी न्यारी
रेत रहे इंसान की गर्दन, मां बहनों की लाज हमारी
हे विश्वनाथ महाराज नाथ, तुम सुन लो अरज हमारी
हे त्रिपुरारी सब जीवो के स्वामी, मैं क्या हाल बताऊं
अखिल विश्व है हलाकान, मैं क्या क्या तुम्हें सुनाऊं
हे नाथ तुम्हारे नाम हजारों, कैसे मैं गा पाऊं
लड़ते हैं तेरे नामों पर, धर्म के नाम पर हिंसा
नहीं बचा मेहफूज धरा पर, दुनिया का कोई हिस्सा
मार रहे बूढ़े बच्चे, मां बहनों को रोज उठाते हैं
बीच बाजार में बम है फटते, लाखों मारे जाते हैं
मासूमों को नहीं बख्सते, स्कूलों में उन्हें उड़ाते हैं
घायल है मानवता नाथ, दानवता जग में फैल रही
प्रेम और करुणा की हत्या, सारे जग में रोज हुई
हे विश्वनाथ रोको अब तो, सारी दुनिया त्रस्त हुई
हे विश्वनाथ अब दया करो, दुखियों पर अब कृपा करो
हे नाथ तुम्हारे नामों पर, मानव हत्या बहुत हुई
घायल है यह धरती माता, सारे जग में चीत्कार हुई
हे निराकार साकार, हे आत्म तत्व के स्वामी
सबके मन की जानने बाले, तुम हो अंतर्यामी
हे नाथ धर्म की दशा तुम्हें, मैं क्या-क्या बतलाऊं
लुप्त प्राय हैं धर्म के लक्षण, क्या-क्या तुम्हें बताऊं
सत्य शांति और दया क्षमा, दिल में आज नदारद है
धर्म हुआ पाखंड में परिणित, आचरण में नहीं समाहित है
कई पंथ संप्रदाय धर्म के, दुनिया में आज प्रचारित हैं
सत्य प्रेम करुणा ही केवल, जग में आज नदारद हैं
मैं कैंसे बताऊं नाथ, मैं क्या क्या हाल सुनाऊं
धर्म के नाम पर घोर अनर्थ, कैसे पार मैं पाऊं
अत्याचार अनाचार भ्रष्टाचार, जगत में जारी है
कई नारियां रखे हुए, कहलाता ब्रह्मचारी है
सदभाव और सदाचार, इस जग में केवल नारे हैं
जिसको देखो उपदेश करें, जीवन में नहीं उतारे हैं
सुख शांति संतोष यहां पर, कहीं नहीं दिखते हैं
अभिलाषाएं यहां असीमित, असंतोष ही दिखते हैं
मात पिता गुरु बंधु यहां, दुश्मन से देखे जाते हैं
मां बहनों के चीरहरण, इस जग में देखे जाते हैं
हाल धरा के नाथ आज, मैं कैसे तुमसे बयां करूं
सारी धरती हुई प्रदूषित, नाथ रहूं तो कहां रहूं
जल नभ धरती तीनों जग में, महा प्रदूषित हुए हैं
कैसे लूं में सांस नाथ, वायु भी तो प्रदूषित है
मेरी असीम तृष्णा ने, काट दिए जंगल सारे
सूख गई नदियां धरती की, नहीं रहे अब नद नारे
बंजर हो गए खेत हमारे, बरस रहे हैं अंगारे
नहीं रही नैतिकता, ना नैतिक मूल्य हमारे
संस्कृति विस्मृत है, घर परिवार हमारे
स्वारथ के बढ़ गए दायरे, हो गए हम तो मतबारे
नीति नियम मर्यादा, सदाचार सब चले गए
उत्श्रंखिल हुआ समाज, लोग पुराने चले गए
हिंसा और अज्ञान ने, जग में अपने पांव पसारे
कहां जाऊं हे नाथ, शांति के बंद हुए दरवाजे
कुछ तो कीजिए नाथ, नेत्र अब तीसरा खोलो
मिट जाए आतंक नाथ, अब कुछ तो बोलो
धरा हुई बेचैन नाथ, अब कुछ तो कीजे
हरी भरी धरती हो जाए, नाथ अभय अब दीजे
नहीं कहीं आतंक, नाथ न हिंसा होवे
सारा जग हो सुखी शांत, आपा न खोवे
हे विश्वनाथ महाराज अरज है, टेर हमारी
सत्य प्रेम और करुणा से भर जाए, पावन धरा हमारी
अन्याय आतंक मिटे, सब अवगुण मिटें हमारे
कहीं ना कोई भेदभाव हो, आनंद हो दुनिया सारी
नहीं धर्म के झगड़े हों, न अगड़े हों न पिछड़े हों
नहीं कोई अंचल पर झगड़े,न जात पात के न हों पचड़े हैं
सारे जग में समता आए, नहीं कहीं पर झगड़े हों
मां सी ममता सब में आए, धरती हरी भरी हो जाए
जग का प्रदूषण मिट जाए,सप्त स्वरों में दुनिया गाए
हे काशी के विश्वनाथ, स्वप्न मेरा पूरा हो जाए

Language: Hindi
75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
पिता का यूं चले जाना,
पिता का यूं चले जाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हरितालिका तीज
हरितालिका तीज
Mukesh Kumar Sonkar
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
परिवार
परिवार
Neeraj Agarwal
।। रावण दहन ।।
।। रावण दहन ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
Shweta Soni
समझदारी का न करे  ,
समझदारी का न करे ,
Pakhi Jain
9) खबर है इनकार तेरा
9) खबर है इनकार तेरा
पूनम झा 'प्रथमा'
नेता खाते हैं देशी घी
नेता खाते हैं देशी घी
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जीवन में
जीवन में
ओंकार मिश्र
हर खुशी
हर खुशी
Dr fauzia Naseem shad
मुझ को अब स्वीकार नहीं
मुझ को अब स्वीकार नहीं
Surinder blackpen
कली को खिलने दो
कली को खिलने दो
Ghanshyam Poddar
सुनो तुम
सुनो तुम
Sangeeta Beniwal
"विद्या"
Dr. Kishan tandon kranti
सुकून की चाबी
सुकून की चाबी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप।
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
पूर्वार्थ
पथ नहीं होता सरल
पथ नहीं होता सरल
surenderpal vaidya
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
3370⚘ *पूर्णिका* ⚘
3370⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
व्यवहार अपना
व्यवहार अपना
Ranjeet kumar patre
जुदाई की शाम
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
पगली
पगली
Kanchan Khanna
#अब_यादों_में
#अब_यादों_में
*Author प्रणय प्रभात*
ज़माना
ज़माना
अखिलेश 'अखिल'
*रामलला सिखलाते सबको, राम-राम ही कहना (गीत)*
*रामलला सिखलाते सबको, राम-राम ही कहना (गीत)*
Ravi Prakash
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
Manoj Mahato
Loading...