Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2023 · 1 min read

“हे वसन्त, है अभिनन्दन..”

नव कोपल, कलिका, कर दे,
मुझको भी, नख से शिख, उज्ज्वल।
पीत पुष्प, प्रेरित कर देँ,
हर एक प्राणी मेँ, प्रेम नवल।

वाणी पर, सँयम रक्खें,
गुँजार, भ्रमर सा हो निर्मल।
नृत्य, तितलियों सा मोहक,
मन मेँ स्नेहिल, सद्भाव, सरल।।

हो हरा-भरा, यह जग-उपवन,
अम्बर से अमृत, जाए बरस।
लहराए, बासन्ती चूनर,
हो वसुधा का, श्रँगार सरस।।

मातु शारदे, वर दे,
विद्या और विवेक सँग, ओज प्रबल।
हे वसन्त, है अभिनन्दन,
भर दे “आशा”, आलोक धवल..!

##———##———##———

Language: Hindi
15 Likes · 29 Comments · 432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
"पहले मुझे लगता था कि मैं बिका नही इसलिए सस्ता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
विपरीत परिस्थिति को चुनौती मान कर
विपरीत परिस्थिति को चुनौती मान कर
Paras Nath Jha
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
2573.पूर्णिका
2573.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
goutam shaw
जाड़ा
जाड़ा
नूरफातिमा खातून नूरी
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
Anil Mishra Prahari
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हालात ए वक्त से
हालात ए वक्त से
Dr fauzia Naseem shad
*सबसे अच्छा काम प्रदर्शन, धरना-जाम लगाना (हास्य गीत)*
*सबसे अच्छा काम प्रदर्शन, धरना-जाम लगाना (हास्य गीत)*
Ravi Prakash
A beautiful space
A beautiful space
Shweta Soni
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पथ सहज नहीं रणधीर
पथ सहज नहीं रणधीर
Shravan singh
People will chase you in 3 conditions
People will chase you in 3 conditions
पूर्वार्थ
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कौन यहाँ पर पीर है,
कौन यहाँ पर पीर है,
sushil sarna
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जब भी आया,बे- मौसम आया
जब भी आया,बे- मौसम आया
मनोज कुमार
सत्य
सत्य
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
💐अज्ञात के प्रति-76💐
💐अज्ञात के प्रति-76💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम एक निर्मल,
प्रेम एक निर्मल,
हिमांशु Kulshrestha
"झूठी है मुस्कान"
Pushpraj Anant
आज, पापा की याद आई
आज, पापा की याद आई
Rajni kapoor
Kathputali bana sansar
Kathputali bana sansar
Sakshi Tripathi
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
"असर"
Dr. Kishan tandon kranti
उत्तर नही है
उत्तर नही है
Punam Pande
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
Rj Anand Prajapati
दरारें छुपाने में नाकाम
दरारें छुपाने में नाकाम
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...