Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 2 min read

हे राम !

प्रार्थना सभा में गोलियों की आवाज सुनाई दी
और बापू चुप हो गए!
भजन- संध्या के गीत बंद हो गए
उभरते स्वर और बोल बंद हो गए
कुछ पल बाद एक स्वर गूंजा
”हे राम”
और शोर हो गया
बापू चल बसे
गोलियों ने उनकी जान ले ली
बापू की जान चली गई
एक महात्मा भगवान के प्यारे हो गए।
सत्य अहिंसा का पुजारी
हिंसा का शिकार हो गया।
किसकी थी साजिश ?
किसकी थी गोली?
किसकी थी बोली?
कोई पकड़ाया, कोई भाग गया
अदालत ने इंसाफ किया
सब कुछ साफ -साफ हो गया।

ऐसा ही होता है क्या?
गोली चली और आप भी चले गए !
स्वस्थ होकर आते
हमारे बीच रहते
हमारे साथ रहते
हमें दिशा दिखाते
देश की दशा को अपने हाथों संवारते
आपका दर्शन हमारे लिए प्रकाश स्तंभ है
जिसके आलोक में हम अग्रसर हो रहें हैं।

हम स्वतंत्र हैं, स्वाधीन है
हम गणतंत्र है, संप्रभु हैं
आजादी का अमृत- महोत्सव मना चुके हैं
शताब्दी वर्ष का आगाज हो चुका है
भारत का तिरंगा ऊंचा लहरा रहा है
हम नया आसमां तलाश रहे हैं
बढ़ रहे है आगे,
विकास कर रहे हैं
तीसरी अर्थव्यवस्था के दौड़ में हैं
चार सौ वर्षों की गुलामी आप ने तोड़ा है
पांच सौ बाद (लगभग ) ”रामलला ”
अपने जन्मभूमि पर आए हैं
जिसे अपने पुकारा था ‘ हे राम’
वे ही आए हैं।
धार्मिक सम्रदायिकता भी बढ़ रही है
आज यदि आप स्वर्गवासी होते तो
समाधि पर ‘हे राम ‘ लिखने में
शायद आनाकानी होती ।

मैं करता हूं प्रणाम आपको
राम -राम आपको।
***************”********************
@मौलिक रचना -घनश्याम पोद्दार
मुंगेर

Language: Hindi
2 Likes · 37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Orange 🍊 cat
Orange 🍊 cat
Otteri Selvakumar
क्या कहे हम तुमको
क्या कहे हम तुमको
gurudeenverma198
"दिमागी गुलामी"
Dr. Kishan tandon kranti
यूँ तो समुंदर बेवजह ही बदनाम होता है
यूँ तो समुंदर बेवजह ही बदनाम होता है
'अशांत' शेखर
कुछ बात थी
कुछ बात थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चमकते तारों में हमने आपको,
चमकते तारों में हमने आपको,
Ashu Sharma
लहर आजादी की
लहर आजादी की
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
दिल एक उम्मीद
दिल एक उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
Vishal babu (vishu)
ताकत
ताकत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
Rekha khichi
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
Saransh Singh 'Priyam'
When you remember me, it means that you have carried somethi
When you remember me, it means that you have carried somethi
पूर्वार्थ
_देशभक्ति का पैमाना_
_देशभक्ति का पैमाना_
Dr MusafiR BaithA
शिष्टाचार के दीवारों को जब लांघने की चेष्टा करते हैं ..तो दू
शिष्टाचार के दीवारों को जब लांघने की चेष्टा करते हैं ..तो दू
DrLakshman Jha Parimal
*जनवरी में साल आया है (मुक्तक)*
*जनवरी में साल आया है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
shabina. Naaz
*
*"कार्तिक मास"*
Shashi kala vyas
💐अज्ञात के प्रति-140💐
💐अज्ञात के प्रति-140💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
चन्द्रमाँ
चन्द्रमाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
कृष्णकांत गुर्जर
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
शार्टकट
शार्टकट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुहागन का शव
सुहागन का शव
Anil "Aadarsh"
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
23/112.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/112.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
👌फिर हुआ साबित👌
👌फिर हुआ साबित👌
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...