Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-182💐

हे प्रिय!कभी असत्य का व्यवहार सत्य में तो बदल देते।शिक्षा का एक उचित धरातल है।फिर उस प्रेम का क्या जिसमें कामना का कोई लेशमात्र कण भी नहीं हैं।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
71 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
कल देखते ही फेरकर नजरें निकल गए।
कल देखते ही फेरकर नजरें निकल गए।
Prabhu Nath Chaturvedi
स्त्री रहने दो
स्त्री रहने दो
Arti Bhadauria
प्यासा मन
प्यासा मन
नेताम आर सी
गीत
गीत
Kanchan Khanna
मेरे हिसाब से
मेरे हिसाब से
*Author प्रणय प्रभात*
मैथिली साहित्य मे परिवर्तन से आस जागल।
मैथिली साहित्य मे परिवर्तन से आस जागल।
Acharya Rama Nand Mandal
अफसोस न करो
अफसोस न करो
Dr fauzia Naseem shad
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
Vishal babu (vishu)
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
Sidhartha Mishra
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
Satish Srijan
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो पढ़ना जरूर ।
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो पढ़ना जरूर ।
Rajesh vyas
💐अज्ञात के प्रति-73💐
💐अज्ञात के प्रति-73💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेजुबान और कसाई
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
हम
हम
Ankit Kumar
🪔सत् हंसवाहनी वर दे,
🪔सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*आदत बदल डालो*
*आदत बदल डालो*
Dushyant Kumar
वीरगति
वीरगति
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
कलाकार की कला✨
कलाकार की कला✨
Skanda Joshi
हमने हिंदी को खोया है!
हमने हिंदी को खोया है!
अशांजल यादव
एक प्यार ऐसा भी
एक प्यार ऐसा भी
श्याम सिंह बिष्ट
अपनों के खो जाने के बाद....
अपनों के खो जाने के बाद....
Jyoti Khari
धर्म
धर्म
पंकज कुमार कर्ण
प्यार नहीं तो कुछ नहीं
प्यार नहीं तो कुछ नहीं
Shekhar Chandra Mitra
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
Er.Navaneet R Shandily
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
सब स्वीकार है
सब स्वीकार है
Saraswati Bajpai
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
DrLakshman Jha Parimal
*वट का वृक्ष सदा से सात्विक,फल अद्भुत शुभ दाता (गीत)*
*वट का वृक्ष सदा से सात्विक,फल अद्भुत शुभ दाता (गीत)*
Ravi Prakash
2275.
2275.
Dr.Khedu Bharti
दलदल में फंसी
दलदल में फंसी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...