Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 1 min read

हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले

हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
धर्मांध हुई दुनिया सारी, लड़ते रहते हैं जग वाले
एक नूर ते जग उपजाया,माया कोई जान पाया
क्यों तुमने अपने नामों से, दुनिया को भरमाया
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु पर, हिंसा करते हैं जग वाले
हे जगदीश्वर परम पिता,जग ने न तुमको पहचाना
नहीं रुप और नाम गुणों को, अंतर्मन से जाना
अलग अलग करते हैं तुमको, अक्सर ये दुनिया वाले
मची हुई है मार काट,सत शांति न दया क्षमा
धर्म के नाम से क्षरण धर्म का,संकट है घनघोर महा
वेशक तुम ईश्वर तुम अल्लाह,गाड और गुरु तुम हो
सर्बशक्तिमान गुण रुप अनश्वर,जगत पिता परमेश्वर हो
तेरे नाम पर मार रहे, काफ़िर कहकर जग वाले
मरते हैं निर्दोष जगत में,गोरे हों या काले
मानवता को आन बचाओ,हे दुनिया रखवाले
हे परम पिता सारे जग के, दुनिया की करुण पुकार सुनो
हिंसा द़ेष मिटाओ जग से,हे परम पिता अब एक बनो
प्रेम प्रीत के सुमन खिलाओ, एक हो जाएं जग वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
2 Likes · 4 Comments · 604 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
"कर्म और भाग्य"
Dr. Kishan tandon kranti
जला रहा हूँ ख़ुद को
जला रहा हूँ ख़ुद को
Akash Yadav
जश्न आजादी का ....!!!
जश्न आजादी का ....!!!
Kanchan Khanna
बेटियां
बेटियां
Madhavi Srivastava
बेअदब कलम
बेअदब कलम
AJAY PRASAD
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
घाटे का सौदा
घाटे का सौदा
विनोद सिल्ला
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
shabina. Naaz
जीवन का सफर
जीवन का सफर
नवीन जोशी 'नवल'
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
मौनता  विभेद में ही अक्सर पायी जाती है , अपनों में बोलने से
मौनता विभेद में ही अक्सर पायी जाती है , अपनों में बोलने से
DrLakshman Jha Parimal
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
Chunnu Lal Gupta
मैथिली
मैथिली
Acharya Rama Nand Mandal
मिलने वाले कभी मिलेंगें
मिलने वाले कभी मिलेंगें
Shweta Soni
कुछ लोग रिश्ते में व्यवसायी होते हैं,
कुछ लोग रिश्ते में व्यवसायी होते हैं,
Vindhya Prakash Mishra
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
नेताम आर सी
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
Kumar lalit
2432.पूर्णिका
2432.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नीला ग्रह है बहुत ही खास
नीला ग्रह है बहुत ही खास
Buddha Prakash
दे ऐसी स्वर हमें मैया
दे ऐसी स्वर हमें मैया
Basant Bhagawan Roy
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दोहा पंचक. . . .
दोहा पंचक. . . .
sushil sarna
*पाना दुर्लभ है सदा, सहस्त्रार का चक्र (कुंडलिया)*
*पाना दुर्लभ है सदा, सहस्त्रार का चक्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मातु काल रात्रि
मातु काल रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कामयाबी का जाम।
कामयाबी का जाम।
Rj Anand Prajapati
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"अस्थिरं जीवितं लोके अस्थिरे धनयौवने |
Mukul Koushik
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...