Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

!! हे उमां सुनो !!

हे उमां सुनो, हो भाग्यवती
प्रभुवर’वर’आज़ तुम्हारे हैं

गले में विषधर की माला
नीलकंठ बने पी विष प्याला
शशि माथे पर चमकें चम-चम
शिव मस्त मलंग निराले हैं
हे उमां सुनो……………….
….…………………………

कर में बाजे डमरू डम-डम
जटा से, गंगा का उद्गम
ब्रह्मा, विष्णु,नर,यक्ष, मुनि
पावों तक पलक पसारे हैं
हे उमां सुनो………………
…………………………..

क़मर लपेटे मृगछाला
भुजा में रूद्राक्ष की माला
“चुन्नू” गण,नंदी, संग लिए
बम-बम भोले जयकारे हैं
हे उमां सुनो……………….
……………………………

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता – मऊ (उ.प्र.)

1 Like · 901 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"पालतू"
Dr. Kishan tandon kranti
21 उम्र ढ़ल गई
21 उम्र ढ़ल गई
Dr .Shweta sood 'Madhu'
कोई तो डगर मिले।
कोई तो डगर मिले।
Taj Mohammad
मैं अशुद्ध बोलता हूं
मैं अशुद्ध बोलता हूं
Keshav kishor Kumar
मैं तेरी हो गयी
मैं तेरी हो गयी
Adha Deshwal
"What comes easy won't last,
पूर्वार्थ
इबादत आपकी
इबादत आपकी
Dr fauzia Naseem shad
दो अक्टूबर
दो अक्टूबर
नूरफातिमा खातून नूरी
"" *तस्वीर* ""
सुनीलानंद महंत
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
गर तुम हो
गर तुम हो
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
साथ
साथ
Neeraj Agarwal
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
नेताम आर सी
जागेगा अवाम
जागेगा अवाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चुनौती
चुनौती
Ragini Kumari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
इंजी. संजय श्रीवास्तव
अब के मौसम न खिलाएगा फूल
अब के मौसम न खिलाएगा फूल
Shweta Soni
आज के माहौल में
आज के माहौल में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
बिटिया विदा हो गई
बिटिया विदा हो गई
नवीन जोशी 'नवल'
नैनों के अभिसार ने,
नैनों के अभिसार ने,
sushil sarna
खयालों ख्वाब पर कब्जा मुझे अच्छा नहीं लगता
खयालों ख्वाब पर कब्जा मुझे अच्छा नहीं लगता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
क्या पता मैं शून्य न हो जाऊं
क्या पता मैं शून्य न हो जाऊं
The_dk_poetry
वाह रे मेरे समाज
वाह रे मेरे समाज
Dr Manju Saini
23/186.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/186.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“मैं सब कुछ सुनकर भी
“मैं सब कुछ सुनकर भी
गुमनाम 'बाबा'
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...