Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2024 · 1 min read

*हेमा मालिनी (कुंडलिया)*

हेमा मालिनी (कुंडलिया)
➖➖➖➖➖➖➖
अभिनेता अभिनेत्रियॉं, यों तो हुईं हजार
लेकिन हेमा मालिनी, कब होतीं हर बार
कब होतीं हर बार, कभी दिखतीं अंगारा
ड्रीम गर्ल का रूप, हमेशा पाया प्यारा
कहते रवि कविराय, नृत्य अद्भुत रस देता
मनपसंद धर्मेंद्र, मिले साथी अभिनेता
————————————
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

23 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
कवि रमेशराज
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
Satish Srijan
यह तुम्हारी गलतफहमी है
यह तुम्हारी गलतफहमी है
gurudeenverma198
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
तुम जो हमको छोड़ चले,
तुम जो हमको छोड़ चले,
कृष्णकांत गुर्जर
परिवार
परिवार
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
रिश्तों में झुकना हमे मुनासिब लगा
रिश्तों में झुकना हमे मुनासिब लगा
Dimpal Khari
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
गुलाम
गुलाम
Punam Pande
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
हर हक़ीक़त को
हर हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
मन की दुनिया अजब निराली
मन की दुनिया अजब निराली
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुछ भी भूलती नहीं मैं,
कुछ भी भूलती नहीं मैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
नज़्म - चांद हथेली में
नज़्म - चांद हथेली में
Awadhesh Singh
शिव तेरा नाम
शिव तेरा नाम
Swami Ganganiya
* दिल बहुत उदास है *
* दिल बहुत उदास है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*स्वर्ग लोक से चलकर गंगा, भारत-भू पर आई (गीत)*
*स्वर्ग लोक से चलकर गंगा, भारत-भू पर आई (गीत)*
Ravi Prakash
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
पूर्वार्थ
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
Guru Mishra
जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने
जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने
इंजी. संजय श्रीवास्तव
दोहा त्रयी. . . . शमा -परवाना
दोहा त्रयी. . . . शमा -परवाना
sushil sarna
■ विडम्बना
■ विडम्बना
*प्रणय प्रभात*
कुपुत्र
कुपुत्र
Sanjay ' शून्य'
फर्क तो पड़ता है
फर्क तो पड़ता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
धर्म और विडम्बना
धर्म और विडम्बना
Mahender Singh
"जिराफ"
Dr. Kishan tandon kranti
2445.पूर्णिका
2445.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शायरी
शायरी
गुमनाम 'बाबा'
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...