Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

*हुस्न से विदाई*

बाइक थी उसकी शौक सवारी,
घूमने की थी फुल तैयारी।
करतूतें थी उसकी न्यारी,
यात्राएं लगती थी उसे प्यारी।
ना पढ़ाई की थी तैयारी,
भाड़ में जाए दुनियादारी।
भीड़ खचाखच शोर ही शोर,
हिम्मत ना कोई टोके और।
चलता था नजरे घूमाकर,
जुल्फों को हवा में लहराकर।
बेमतलब की बात बनाकर,
रौब और टशन दिखाकर।
लहरा लेकर बाइक चलाता,
क्या होगा आगे न घबराता?
तभी उसने दाएं को देखा,
चेहरे पर थी खुशी की रेखा।
कार में देखी हुस्न वाली,
सुंदर प्यारी यौवनशाली।
लाल-लाल गालों वाली,
रेशम जैसे बालों वाली।
काली काली आंखों वाली,
सूरत उसकी थी निराली।
चेहरे पर था नकाब जाली,
मासूमियत उसकी करती घाली।
लंबाई उसकी थी फिट वाली,
हर झलक करती सवाली।
होठ रसीले गात कशीला,
बाइक वाला हो गया जहरीला।
जगी लालसा सुंदर छवि की,
बात है केवल अभी-अभी की।
सपने उसके लगते गहरे,
मालूम नहीं कितने हैं पहरे।
लड़की को कुछ पता नहीं,
उसकी कुछ भी कथा नहीं।
बाइक सवार की थी करतूत,
चढ़ा था उसके सिर पर भूत।
उठाता अपने बार-बार बूट,
पता नहीं हो जाएगा शूट।
बार-बार यौवन को जुलकाता,
सांप जैसी बाइक चलाता।
खुद ही बार-बार मुस्काता,
पता नहीं क्या होगा नाता?
तभी अचानक ध्यान भटका,
लगा तभी जोर का झटका।
घूमी खोपड़ी जैसे मटका,
किसी ने उसको जोर से पटका।
बस इतनी थी उसकी लड़ाई,
हो गई दुनिया से विदाई।
यह सीख है और सच्चाई,
कदम उठाओ सोचकर भाई।
सोच समझकर मचलो भाई,
जीवन से ना हो विदाई।
भटको नहीं देखकर छवि,
दुष्यन्त कुमार लिखता है कवि।।

1 Like · 56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
#सत्यान्वेषण_समय_की_पुकार
#सत्यान्वेषण_समय_की_पुकार
*Author प्रणय प्रभात*
लो फिर गर्मी लौट आई है
लो फिर गर्मी लौट आई है
VINOD CHAUHAN
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
कवि दीपक बवेजा
यह तुम्हारी गलत सोच है
यह तुम्हारी गलत सोच है
gurudeenverma198
दुर्गा माँ
दुर्गा माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रेम.....
प्रेम.....
शेखर सिंह
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
Pramila sultan
तलाश हमें  मौके की नहीं मुलाकात की है
तलाश हमें मौके की नहीं मुलाकात की है
Tushar Singh
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
अतीत
अतीत
Bodhisatva kastooriya
कोई गुरबत
कोई गुरबत
Dr fauzia Naseem shad
" क्यूँ "
Dr. Kishan tandon kranti
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
Neelam Sharma
परछाई (कविता)
परछाई (कविता)
Indu Singh
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
नरम दिली बनाम कठोरता
नरम दिली बनाम कठोरता
Karishma Shah
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
पूर्वार्थ
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दुम कुत्ते की कब हुई,
दुम कुत्ते की कब हुई,
sushil sarna
नारी
नारी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
Madhuyanka Raj
3218.*पूर्णिका*
3218.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझ में
मुझ में
हिमांशु Kulshrestha
*सौ वर्षों तक जीना अपना, अच्छा तब कहलाएगा (हिंदी गजल)*
*सौ वर्षों तक जीना अपना, अच्छा तब कहलाएगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
जुते की पुकार
जुते की पुकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चॉंद और सूरज
चॉंद और सूरज
Ravi Ghayal
Loading...