Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2016 · 1 min read

तेरे हुसन का जादू(गज़ल)

तेरे हुसन का जादू/मंदीप

तेरा हुसन का जादू मुझ में समाता जाये,
जहाँ जहाँ मै जाऊ हर जगह मुझे तू ही नजर आये।

रूप बेमिसाल जैसे हो शायर का ख्वाब,
देखे ले जो एक बार फिर कुछ नजर ना आये।

चाल तेरी जैसे लरजती टहनी,
हवा का जोका तूझे छूना चाहे।

आँखे ऐसी जैसे चन्द्रमा की सुनहरी किरणे,
देख तेरे रूप का योवन मन शितल हो जाये।

कमर पर लम्बे केश जैसे हो अमर बेल,
देख तेरे हुसन को ये समा बंद जाये।

“मंदीप” रहना बच कर उस रूप की रानी से,
उस की आँखो के तीर तुम पर न चल जाय।

मंदीपसाई

225 Views
You may also like:
मुंशी प्रेमचंद, एक प्रेरणा स्त्रोत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
लिपट कर तिरंगे में आऊं
AADYA PRODUCTION
क्यों भावनाएं भड़काते हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भूल गयी वह चिट्ठी
Buddha Prakash
कहां है, शिक्षक का वह सम्मान जिसका वो हकदार है।
Dushyant Kumar
आख़िरी मुलाक़ात
N.ksahu0007@writer
समय भी कुछ तो कहता है
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
बेताब दिल की तमन्ना
VINOD KUMAR CHAUHAN
सौ बात की एक
Dr.sima
ज़िक्र तेरा लबों पे क्या आया
Dr fauzia Naseem shad
पढ़ने का शौक़
Shekhar Chandra Mitra
मोरे सैंया
DESH RAJ
चश्में चरागा कर दिया।
Taj Mohammad
'फौजी होना आसान नहीं होता"
Lohit Tamta
मैं पीड़ाओं की भाषा हूं
Shiva Awasthi
रहना सम्भलकर यारों
gurudeenverma198
कभी गरीबी की गलियों से गुजरो
कवि दीपक बवेजा
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
*इशारा उसका काफी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आजादी का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
भूख
Saraswati Bajpai
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
चलो करें धूम - धड़ाका..
लक्ष्मी सिंह
“MAKE FRIENDS QUICKLY, IF YOU DON’T LIKE THEM, UNFRIEND”
DrLakshman Jha Parimal
मजदूर -भाग -एक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🌺इक मुलाक़ात पर इतना एहतिमाल🌺⚜️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तब से भागा कोलेस्ट्रल
श्री रमण 'श्रीपद्'
ध्यान
विशाल शुक्ल
दिल चाहता है...
Seema 'Tu hai na'
Loading...