Sep 22, 2016 · 1 min read

तेरे हुसन का जादू(गज़ल)

तेरे हुसन का जादू/मंदीप

तेरा हुसन का जादू मुझ में समाता जाये,
जहाँ जहाँ मै जाऊ हर जगह मुझे तू ही नजर आये।

रूप बेमिसाल जैसे हो शायर का ख्वाब,
देखे ले जो एक बार फिर कुछ नजर ना आये।

चाल तेरी जैसे लरजती टहनी,
हवा का जोका तूझे छूना चाहे।

आँखे ऐसी जैसे चन्द्रमा की सुनहरी किरणे,
देख तेरे रूप का योवन मन शितल हो जाये।

कमर पर लम्बे केश जैसे हो अमर बेल,
देख तेरे हुसन को ये समा बंद जाये।

“मंदीप” रहना बच कर उस रूप की रानी से,
उस की आँखो के तीर तुम पर न चल जाय।

मंदीपसाई

141 Views
You may also like:
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
रुक जा रे पवन रुक जा ।
Buddha Prakash
चलो गांवो की ओर
Ram Krishan Rastogi
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
गधा
Buddha Prakash
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बहंगी लचकत जाय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
"पिता"
Dr. Alpa H.
-:फूल:-
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H.
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
🍀🌺प्रेम की राह पर-42🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वेलेंटाइन स्पेशल (5)
N.ksahu0007@writer
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H.
Loading...