Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

हिन्दी दोहा लाड़ली

हिन्दी दोहा बिषय:- लाडली

बेटी मन से लाडली , बेटा लगे प्रकाश |
#राना दोनों दीप है , घर में भरें उजास ||

छोटी नातिन लाडली , सब करते पुचकार |
#राना चढ़ती अंक में , पाती बहुत दुलार ||

बेटी होती लाडली , बेटा पाते लाड़ |
#राना दोनों साथ जब , चढ़ ले पिता पहाड़ ||

अब तो #राना लाडली , बेटी करती काम |
पिता और परिवार का , ऊँचा करती नाम ||

सोच बदलिए आप अब , #राना सुनो सलाह |
बेटी होती लाडली , घर मेंं लाती वाह ||
****
© राजीव नामदेव “राना लिधौरी” टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com
Blog-rajeevranalidhori.blogspot.com

1 Like · 383 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक दिन
एक दिन
Ranjana Verma
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
*मस्ती भीतर की खुशी, मस्ती है अनमोल (कुंडलिया)*
*मस्ती भीतर की खुशी, मस्ती है अनमोल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सिपाहियों के दस्ता कर रहें गस्त हैं,
सिपाहियों के दस्ता कर रहें गस्त हैं,
Satish Srijan
*जातिवाद का खण्डन*
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
कोई शाम आयेगी मेरे हिस्से
कोई शाम आयेगी मेरे हिस्से
Amit Pandey
हम कहां तुम से
हम कहां तुम से
Dr fauzia Naseem shad
नवरात्रि की शुभकामनाएँ। जय माता दी।
नवरात्रि की शुभकामनाएँ। जय माता दी।
Anil Mishra Prahari
राजनीति का नाटक
राजनीति का नाटक
Shyam Sundar Subramanian
हैं श्री राम करूणानिधान जन जन तक पहुंचे करुणाई।
हैं श्री राम करूणानिधान जन जन तक पहुंचे करुणाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
खिलौने वो टूट गए, खेल सभी छूट गए,
खिलौने वो टूट गए, खेल सभी छूट गए,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
फूल से आशिकी का हुनर सीख ले
फूल से आशिकी का हुनर सीख ले
Surinder blackpen
55 रुपए के बराबर
55 रुपए के बराबर
*Author प्रणय प्रभात*
ना वह हवा ना पानी है अब
ना वह हवा ना पानी है अब
VINOD CHAUHAN
मेरी सफर शायरी
मेरी सफर शायरी
Ms.Ankit Halke jha
मेल
मेल
Lalit Singh thakur
एक सत्य यह भी
एक सत्य यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"एक नाविक सा"
Dr. Kishan tandon kranti
Sometimes…
Sometimes…
पूर्वार्थ
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
शेखर सिंह
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ओनिका सेतिया 'अनु '
भज ले भजन
भज ले भजन
Ghanshyam Poddar
तुम ही तुम हो
तुम ही तुम हो
मानक लाल मनु
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
Neelam Sharma
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
शांति तुम आ गई
शांति तुम आ गई
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
वजह ऐसी बन जाऊ
वजह ऐसी बन जाऊ
Basant Bhagawan Roy
Loading...