Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2023 · 1 min read

हिन्दी दोहा बिषय- न्याय

14-हिंदी दोहे -*न्याय और राना की राय*

1
#राना चप्पल घिस गई , मिला नहीं है न्याय |
उलझाते हैं पंच अब , सूझे नहीं उपाय ||

2
न्याय भिखारी हो ग़या , आज देखते दौर |
मांगा जाता है उसे , #राना अब हर ठौर ||

3
घर बैठे किसको मिला , गए माँगने लोग |
फिर भी मिलता है नहीं , #राना सब दुर्योग ||

4
करें न्याय की बात भी , अन्यायी के संग |
#राना नाटक चल रहे, बिविध तरह के रंग ||

5
एक बात मन से कहूँ , #राना की है राय |
देखा जग में सीख लो , क्या होता है न्याय ।।
***
राजीव नामदेव “राना लिधौरी”
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

1 Like · 121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आख़री तकिया कलाम
आख़री तकिया कलाम
Rohit yadav
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
Dheerja Sharma
#शुभरात्रि
#शुभरात्रि
आर.एस. 'प्रीतम'
खाक मुझको भी होना है
खाक मुझको भी होना है
VINOD CHAUHAN
कहानी-
कहानी- "खरीदी हुई औरत।" प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
हमने ख़ामोशियों को
हमने ख़ामोशियों को
Dr fauzia Naseem shad
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
gurudeenverma198
न कुछ पानें की खुशी
न कुछ पानें की खुशी
Sonu sugandh
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
3187.*पूर्णिका*
3187.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
#तार्किक_तथ्य
#तार्किक_तथ्य
*Author प्रणय प्रभात*
लहू जिगर से बहा फिर
लहू जिगर से बहा फिर
Shivkumar Bilagrami
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
शेखर सिंह
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
कवि दीपक बवेजा
देह धरे का दण्ड यह,
देह धरे का दण्ड यह,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
सत्यमेव जयते
सत्यमेव जयते
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
फितरत
फितरत
umesh mehra
☘☘🌸एक शेर 🌸☘☘
☘☘🌸एक शेर 🌸☘☘
Ravi Prakash
हम रहें आजाद
हम रहें आजाद
surenderpal vaidya
आज का महाभारत 2
आज का महाभारत 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
Neeraj Agarwal
जय भोलेनाथ
जय भोलेनाथ
Anil Mishra Prahari
नादानी
नादानी
Shaily
महाकाल भोले भंडारी|
महाकाल भोले भंडारी|
Vedha Singh
"यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
कवि रमेशराज
सब कुछ खत्म नहीं होता
सब कुछ खत्म नहीं होता
Dr. Rajeev Jain
श्री राम राज्याभिषेक
श्री राम राज्याभिषेक
नवीन जोशी 'नवल'
Loading...