Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#24 Trending Author

ये ख्वाब न होते तो क्या होता?

ये ख्वाब न होते तो क्या होता?

झोपड़ी में रहने वाले लोग
जब थोड़े व्यथित हो जाते है
वक़्त अपना भी बदलेगा
जब ये खुद को समझाते हैं
फिर रात की नींद में वे झट से
अपने ख्वाबों में जाते हैं
ख्वाब में मस्त मगन होकर
एक सपनों का घर बनाते है
वक़्त उनका अच्छा होता
तो उनका घर भी नया होता
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?

हकीकत में टूटी साईकिल है
पर ख्वाबों में कार से चलते हैं
ये ख्वाब भी बड़े अजीब से हैं
जो दिन होते ही बदलते हैं
रात की चादर ओढ़ के अक्सर
धरती से लिपट कर सोते हैं
उम्मीदों के धागों में अपने
सभी ख्वाबों को पिरोते हैं
ग़र वक़्त उनकी हद में होता
तो क्या ऐसा वाकया होता
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?

दिन बेचैनी लिए हजारों
और रात ख्वाब में कटती
ज्यों थोड़ा सा आगे बढ़ते हैं
त्यों किस्मत तेज डपटती
फिर किस्मत के दरवाजे से
वे ख्वाब से बाहर आते हैं
टूटी नींद के हर एक पहलू
उनको दुःखी कर जाते हैं
ग़र वक्त सच में उनका होता
तो उनका भी नामों -निशा होता
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

3 Likes · 2 Comments · 152 Views
You may also like:
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
तुम हो
Alok Saxena
ऐसे हैं मेरे पापा
Dr Meenu Poonia
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:37
AJAY AMITABH SUMAN
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
मानवता
Dr.sima
एक गलती ( लघु कथा)
Ravi Prakash
✍️सलं...!✍️
"अशांत" शेखर
जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी
Abhishek Upadhyay
बहुत हुशियार हो गए है लोग
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
चेहरे पर चेहरे लगा लो।
Taj Mohammad
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
पक्षियों से कुछ सीखें
Vikas Sharma'Shivaaya'
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता* (संस्मरण)
Ravi Prakash
“ गंगा ” का सन्देश
DESH RAJ
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...