Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग

हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
दर्द अकेले झेलते, दुनिया में सब लोग
महावीर उत्तरांचली

2 Likes · 1 Comment · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
"निर्णय आपका"
Dr. Kishan tandon kranti
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
कार्तिक नितिन शर्मा
कृष्ण भक्ति
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
*
*"अवध के राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
ख़त्म होने जैसा
ख़त्म होने जैसा
Sangeeta Beniwal
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बिन बोले ही  प्यार में,
बिन बोले ही प्यार में,
sushil sarna
पेड़ और चिरैया
पेड़ और चिरैया
Saraswati Bajpai
सत्य प्रेम से पाएंगे
सत्य प्रेम से पाएंगे
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तेरे लहजे पर यह कोरी किताब कुछ तो है |
तेरे लहजे पर यह कोरी किताब कुछ तो है |
कवि दीपक बवेजा
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
उत्तम देह
उत्तम देह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शिव स्तुति
शिव स्तुति
मनोज कर्ण
सागर की ओर
सागर की ओर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अनकहे अल्फाज़
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Sakshi Tripathi
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
Seema Verma
बनारस के घाटों पर रंग है चढ़ा,
बनारस के घाटों पर रंग है चढ़ा,
Sahil Ahmad
रूठी बीवी को मनाने चले हो
रूठी बीवी को मनाने चले हो
Prem Farrukhabadi
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
Radhakishan R. Mundhra
*सपने जैसी जानिए, जीवन की हर बात (कुंडलिया)*
*सपने जैसी जानिए, जीवन की हर बात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ होली का हुल्लड़...
■ होली का हुल्लड़...
*Author प्रणय प्रभात*
मैं गहरा दर्द हूँ
मैं गहरा दर्द हूँ
'अशांत' शेखर
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मक़रूज़ हूँ मैं
मक़रूज़ हूँ मैं
Satish Srijan
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
अब प्यार का मौसम न रहा
अब प्यार का मौसम न रहा
Shekhar Chandra Mitra
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
3163.*पूर्णिका*
3163.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...