Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2023 · 1 min read

!!! हार नहीं मान लेना है !!!

हताश नहीं होना है,
निराश नहीं होना है,
यह अंतिम अवसर नहीं,
फिर से प्रयास होना है,

कोई काम कठिन नहीं,
और यह अंतिम दिन नहीं,

संघर्ष की हर राह पर,
हर्ष की हर चाह पर,
आत्मविश्वास जरूरी है,
फिर होता उत्कर्ष अथाह पर,

हार नहीं मान लेना है,
हर पल परीक्षा देना है,

जग में अवसर भरे पड़े है,
राह देखते वो सदा खड़े है,
क्यों फिर हार मान लेते हो,
अपनी ही जिद पर अड़े हो,

सर्दी, गर्मी चाहे हो बरसात,
सूरज न भूले करना प्रभात,

आओ हम यह प्रण करें,
हार से न कभी फिर डरे ,
संघर्ष रहेगा हमारा जारी,
यही भावना मन में अब धरे,

जीवन सुंदर ईश्वर की रचना,
स्वयं न इसको कभी तजना,

Language: Hindi
71 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.

Books from जगदीश लववंशी

You may also like:
तू मेरा मैं  तेरी हो जाऊं
तू मेरा मैं तेरी हो जाऊं
Ananya Sahu
"शाश्वत"
Dr. Kishan tandon kranti
■ जवाब दें ठेकेदार...!!
■ जवाब दें ठेकेदार...!!
*Author प्रणय प्रभात*
मौत से लड़ती जिंदगी..✍️🤔💯🌾🌷🌿
मौत से लड़ती जिंदगी..✍️🤔💯🌾🌷🌿
Ms.Ankit Halke jha
सधे कदम
सधे कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नग मंजुल मन मन भावे🌺🪵☘️🍁🪴
नग मंजुल मन मन भावे🌺🪵☘️🍁🪴
Tarun Prasad
कुछ मुझको लिखा होता
कुछ मुझको लिखा होता
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी दोहा - स्वागत
हिन्दी दोहा - स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
🥰 होली पर कुछ लेख 🥰
🥰 होली पर कुछ लेख 🥰
Swati
अहंकार
अहंकार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेले चैती के शुरू, दिखती धूसर धूल (कुंडलिया)
मेले चैती के शुरू, दिखती धूसर धूल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
वाचाल पौधा।
वाचाल पौधा।
Rj Anand Prajapati
मेरी बेटियाँ और उनके आँसू
मेरी बेटियाँ और उनके आँसू
DESH RAJ
Hello Sun!
Hello Sun!
Buddha Prakash
" भूलने में उसे तो ज़माने लगे "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
तुम हो तो मैं हूँ,
तुम हो तो मैं हूँ,
लक्ष्मी सिंह
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सुप्रभात
सुप्रभात
Arun B Jain
बरपा बारिश का कहर, फसल खड़ी तैयार।
बरपा बारिश का कहर, फसल खड़ी तैयार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐प्रेम कौतुक-205💐
💐प्रेम कौतुक-205💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुहाग रात
सुहाग रात
Ram Krishan Rastogi
एक थी कोयल
एक थी कोयल
Satish Srijan
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kamal Deependra Singh
✍️पत्थर का बनाना पड़ता है ✍️
✍️पत्थर का बनाना पड़ता है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr.Priya Soni Khare
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
Radhakishan Mundhra
सॉप और इंसान
सॉप और इंसान
Prakash Chandra
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
Manisha Manjari
81 -दोहे (महात्मा गांधी)
81 -दोहे (महात्मा गांधी)
Rambali Mishra
Loading...