Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2023 · 1 min read

!!! हार नहीं मान लेना है !!!

हताश नहीं होना है,
निराश नहीं होना है,
यह अंतिम अवसर नहीं,
फिर से प्रयास होना है,

कोई काम कठिन नहीं,
और यह अंतिम दिन नहीं,

संघर्ष की हर राह पर,
हर्ष की हर चाह पर,
आत्मविश्वास जरूरी है,
फिर होता उत्कर्ष अथाह पर,

हार नहीं मान लेना है,
हर पल परीक्षा देना है,

जग में अवसर भरे पड़े है,
राह देखते वो सदा खड़े है,
क्यों फिर हार मान लेते हो,
अपनी ही जिद पर अड़े हो,

सर्दी, गर्मी चाहे हो बरसात,
सूरज न भूले करना प्रभात,

आओ हम यह प्रण करें,
हार से न कभी फिर डरे ,
संघर्ष रहेगा हमारा जारी,
यही भावना मन में अब धरे,

जीवन सुंदर ईश्वर की रचना,
स्वयं न इसको कभी तजना,

Language: Hindi
186 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
मीलों की नहीं, जन्मों की दूरियां हैं, तेरे मेरे बीच।
मीलों की नहीं, जन्मों की दूरियां हैं, तेरे मेरे बीच।
Manisha Manjari
बदल गए तुम
बदल गए तुम
Kumar Anu Ojha
Be careful having relationships with people with no emotiona
Be careful having relationships with people with no emotiona
पूर्वार्थ
बना चाँद का उड़न खटोला
बना चाँद का उड़न खटोला
Vedha Singh
अमरत्व
अमरत्व
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
Rajesh
मोबाइल
मोबाइल
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
'बेटी की विदाई'
'बेटी की विदाई'
पंकज कुमार कर्ण
आज जब वाद सब सुलझने लगे...
आज जब वाद सब सुलझने लगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
यह ज़िंदगी है आपकी
यह ज़िंदगी है आपकी
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम ...
प्रेम ...
sushil sarna
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
Harminder Kaur
मैं तो महज चुनौती हूँ
मैं तो महज चुनौती हूँ
VINOD CHAUHAN
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
Rituraj shivem verma
मातृत्व
मातृत्व
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
*प्रणय प्रभात*
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
*गाड़ी निर्धन की कहो, साईकिल है नाम (कुंडलिया)*
*गाड़ी निर्धन की कहो, साईकिल है नाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"राखी"
Dr. Kishan tandon kranti
#कहमुकरी
#कहमुकरी
Suryakant Dwivedi
पग पग पे देने पड़ते
पग पग पे देने पड़ते
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
Kumar lalit
"चाह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
Dhriti Mishra
*फिर तेरी याद आई दिल रोया है मेरा*
*फिर तेरी याद आई दिल रोया है मेरा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
हर वो दिन खुशी का दिन है
हर वो दिन खुशी का दिन है
shabina. Naaz
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...