Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 2 min read

हां मैं ईश्वर हूँ ( मातृ दिवस )

हां मैं ईश्वर हूँ (मातृ दिवस)
मैं अरावली पहाड़ियों से मकराना जगह से जा रहा था ।
वहाँ आवाज़ गुंज रही थी ।
लय-ताल से मधुर – गुंज में पत्थर को तराशते हाथ ।
मैं ने कहाँ ?
ये आप किसकी मूर्ती बना रहें ।
मैं रोज इस मार्ग से जा रहा हूँ , और
आपको तन्मयता – भक्तिमय से कार्य करते देख रहा हूँ ।
मानो तराशने वाले हाथ ही ईश्वर हो ,
हां मैं ईश्वर हूँ ,
मैं माँ को आकार – प्रकार प्राण दे रहा हूँ।
मुझे जिज्ञासा हुयी , कैसे आकार-प्रकार प्राण देते हो ?
जिसके कोख से मानवता पुरुषार्थ जन्में
जिसके गोद में सृष्टि समा जाए
जिसके स्पर्श मात्र से बड़ी से बड़ी चोट को सहलाकर ठीक कर दे
जिसके दो हाथ , सबको दिखे , पर हो असंख्य , तांकि जीवन संवारने का
उसका कर्त्तव्य , बिन बाधा पूरा हो सके
जिसके मन में भी
आँखे हो जिससे वह
दूर बैठी बच्चों – परिवार को देख सके
जो बीमार होने पर भी
दस-बारह लोगों वाले
परिवार के लिऐ
हंसकर खुशी से भोजन बना दे
नाजुक हो ,
पर हर मुश्किल को
हरा सकने का दमखम रखें
जिसके आंचल तले
सृष्टि को सुरक्षा मिले
जिसके नेत्रों में
अपने बच्चों के लिए
भावनाओं से भाव भरा जल हो
उनके शत्रुओं के लिऐ ज्वाला
जिसके दर्शन मात्र से
मानवता कृत – कृत हो
मैं उसे आकार-प्रकार प्राण गढ़ रहा हूँ ,
जीसे मानव ,
ठेस तो बहुत पहूंचाएगा ,
पर उसका हाथ
न आशीर्वाद देने से रुकेगा ,
और न अंतकरण दुआ मांगने से
मैं अपना प्रतिरुप आकार-प्रकार प्राण गढ़ रहा हूँ ।
माँ को नमन – ईश्वर प्रतिरुप को नमन ।
000
– राजू गजभिये

Language: Hindi
1 Like · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शरद काल
शरद काल
Ratan Kirtaniya
आजाद लब
आजाद लब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मां सिद्धिदात्री
मां सिद्धिदात्री
Mukesh Kumar Sonkar
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
सत्य कुमार प्रेमी
"Do You Know"
शेखर सिंह
आया तीजो का त्यौहार
आया तीजो का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
Arghyadeep Chakraborty
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
'अशांत' शेखर
"रुपया"
Dr. Kishan tandon kranti
सफाई इस तरह कुछ मुझसे दिए जा रहे हो।
सफाई इस तरह कुछ मुझसे दिए जा रहे हो।
Manoj Mahato
■ कामयाबी का नुस्खा...
■ कामयाबी का नुस्खा...
*प्रणय प्रभात*
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
इंजी. संजय श्रीवास्तव
लाड बिगाड़े लाडला ,
लाड बिगाड़े लाडला ,
sushil sarna
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
लक्ष्मी सिंह
सरस्वती वंदना-6
सरस्वती वंदना-6
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आजा आजा रे कारी बदरिया
आजा आजा रे कारी बदरिया
Indu Singh
जी हां मजदूर हूं
जी हां मजदूर हूं
Anamika Tiwari 'annpurna '
सच तो आज न हम न तुम हो
सच तो आज न हम न तुम हो
Neeraj Agarwal
हर पल ये जिंदगी भी कोई खास नहीं होती ।
हर पल ये जिंदगी भी कोई खास नहीं होती ।
Phool gufran
फ़ैसले का वक़्त
फ़ैसले का वक़्त
Shekhar Chandra Mitra
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
नूरफातिमा खातून नूरी
चुभते शूल.......
चुभते शूल.......
Kavita Chouhan
नित  हर्ष  रहे   उत्कर्ष  रहे,   कर  कंचनमय  थाल  रहे ।
नित हर्ष रहे उत्कर्ष रहे, कर कंचनमय थाल रहे ।
Ashok deep
*द लीला पैलेस, जयपुर में तीन दिन दो रात्रि प्रवास : 26, 27, 28 अगस्त 202
*द लीला पैलेस, जयपुर में तीन दिन दो रात्रि प्रवास : 26, 27, 28 अगस्त 202
Ravi Prakash
आज बुढ़ापा आया है
आज बुढ़ापा आया है
Namita Gupta
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुखौटे
मुखौटे
Shaily
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...