Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2024 · 2 min read

हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है

हां मैंने जाना है ख़ुद को ख़ुद से बेहतर
जब भी आंसुओं ने मेरे चेहरे पर निशान किए हैं
तब मैंने अपनें हाथों उन निशानों को प्रेम से मिटाया है
मेरे जीवन में जब भी अंधकार आया है
मैंने निडर होकर अंधकार का सामना किया है

हां मैंने ख़ुद से प्रेम किया है
हां मेंने ख़ुद से दोस्ती की है
मैंने ख़ुद को जैसी हूं स्वीकारा है
छोटी मोटी पतली दुबली
गोरी काली या सांवली जैसी भी हूं
अपने अस्तित्व को स्वीकार किया है

जब भी किसी अपने ने मुझे ठुकराया है
तब मैने ख़ुद को अपना माना है
अपनी ज़िम्मेदारियों से ख़ुद ही ख़ुद को तराशा है
जीवन में जब भी चुनौतियां आई
मैंने संघर्षों को स्वीकारा है

मेरा जीवन जैसा भी था
दुखों से भरा हुआ था
मैंने उन दुखों से ख़ुद ही ख़ुद को पार लगाया है
मेरे अपनों ने मुझे बोझ माना
मैंने हंसते हुऐ अपना बोझ उठाया है

मेरे साथ जब भी अन्याय हुआ
हार गई थी तब मौत सामने थी लेकिन
मैंने वहां से ख़ुद को वापस लौटाया है
मैंने अकेले ही अपनी आवाज़ उठाई है
जब भी हराना चाहा अपनों ने
हिम्मत फिर किया उठने की

हां दोस्ती मैंने की है ख़ुद ही ख़ुद से
प्यार, भरोसा, ममता, करुणा से ख़ुद को पाला है
मैंने ख़ुद को हर पल स्वीकारा है
मैंने ख़ुद को ही अर्जून और ख़ुद को ही श्री कृष्ण माना है

क्यों छोटी छोटी परेशानियों से घबरा जाते हो
ये क्यों भूल जाते हो ये जीवन तुम्हारा है
मौका मिला है अपनी ज़िम्मेदारी उठाने का
रो लो जितना चाहें आए रोना
लेकिन हिम्मत कभी न हारना

कर लेना दोस्ती ख़ुद से जब कोई अपना न हो जीवन में
कर लेना दोस्ती ख़ुद से जब कोई हो लेकिन वो पराया हो
थाम लेना हाथ अपना मुसीबत की हर घड़ी में
निकल जाना चकमा देकर मौत की घड़ी में
जीवन जीने को ही मंज़िल कहते हैं
मौत से तो पूरी दुनियां हारी है
इस बार तुम्हारी बारी है जीत की तैयारी है

_सोनम पुनीत दुबे

2 Likes · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*प्रेम कविताएं*
*प्रेम कविताएं*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम पतझड़ सावन पिया,
तुम पतझड़ सावन पिया,
लक्ष्मी सिंह
सितारा
सितारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
देता है अच्छा सबक़,
देता है अच्छा सबक़,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दर्द
दर्द
Bodhisatva kastooriya
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
I thought you're twist to what I knew about people of modern
I thought you're twist to what I knew about people of modern
Sukoon
बघेली कविता -
बघेली कविता -
Priyanshu Kushwaha
मुझे लगता था —
मुझे लगता था —
SURYA PRAKASH SHARMA
"रिश्ते की बुनियाद"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी शायरी
मेरी शायरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
मायड़ भौम रो सुख
मायड़ भौम रो सुख
लक्की सिंह चौहान
गुरु ही साक्षात ईश्वर
गुरु ही साक्षात ईश्वर
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
Rajesh Kumar Arjun
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
शतरंज
शतरंज
भवेश
The Misfit...
The Misfit...
R. H. SRIDEVI
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
Dr. Man Mohan Krishna
Decision making is backed by hardwork and courage but to cha
Decision making is backed by hardwork and courage but to cha
Sanjay ' शून्य'
कहां से कहां आ गए हम....
कहां से कहां आ गए हम....
Srishty Bansal
*नशा सरकार का मेरे, तुम्हें आए तो बतलाना (मुक्तक)*
*नशा सरकार का मेरे, तुम्हें आए तो बतलाना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
झूठी हमदर्दियां
झूठी हमदर्दियां
Surinder blackpen
"सबका नाश, सबका विनाश, सबका सर्वनाश, सबका सत्यानाश।"
*प्रणय प्रभात*
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
हार नहीं, हौसले की जीत
हार नहीं, हौसले की जीत
पूर्वार्थ
कविता : आँसू
कविता : आँसू
Sushila joshi
वर्तमान युद्ध परिदृश्य एवं विश्व शांति तथा स्वतंत्र सह-अस्तित्व पर इसका प्रभाव
वर्तमान युद्ध परिदृश्य एवं विश्व शांति तथा स्वतंत्र सह-अस्तित्व पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
Ranjeet kumar patre
मुझे जगा रही हैं मेरी कविताएं
मुझे जगा रही हैं मेरी कविताएं
Mohan Pandey
Loading...