Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

हाँ मैं व्यस्त हूँ

हाँ मैं व्यस्त हूँ

मैं व्यस्त हूँ
चलने और आगे बढ़ने में
अपने आपको ढूंढने में।
उस रस्ते पर नहीं
जंहा अधिकतर लोग चलते है
डरते है और आपने आप को खो देते है ।
मैं अपने डर को शांत करने में व्यस्त हूं
और अपनी हिम्मत पाने में व्यस्त हूँ ।
मैं अपने आप के संपर्क में व्यस्त हूं
हां, मैं ध्यान में व्यस्त हूँ
जो वास्तविक है उसके साथ साथ
मैं चीजों को बढ़ाने में व्यस्त हूं और
प्राकृतिक दुनिया से जुडने में व्यस्त हूँ
मैं अपने अस्तित्व को बढ़ाने में
उन्हें ढूंढने में व्यस्त हूँ।

प्रो डॉ दिनेश गुप्ता – आनन्द्श्री

Language: Hindi
1 Like · 159 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विष बो रहे समाज में सरेआम
विष बो रहे समाज में सरेआम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
Rj Anand Prajapati
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
पूर्वार्थ
"घर की नीम बहुत याद आती है"
Ekta chitrangini
2576.पूर्णिका
2576.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
'अशांत' शेखर
बरसात का मौसम तो लहराने का मौसम है,
बरसात का मौसम तो लहराने का मौसम है,
Neelofar Khan
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
रेतीले तपते गर्म रास्ते
रेतीले तपते गर्म रास्ते
Atul "Krishn"
या सरकारी बन्दूक की गोलियाँ
या सरकारी बन्दूक की गोलियाँ
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
Mahender Singh
ऑंसू छुपा के पर्स में, भरती हैं पत्नियॉं
ऑंसू छुपा के पर्स में, भरती हैं पत्नियॉं
Ravi Prakash
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
आदर्श
आदर्श
Bodhisatva kastooriya
तुम मेरे बाद भी
तुम मेरे बाद भी
Dr fauzia Naseem shad
कब मेरे मालिक आएंगे!
कब मेरे मालिक आएंगे!
Kuldeep mishra (KD)
” आलोचनाओं से बचने का मंत्र “
” आलोचनाओं से बचने का मंत्र “
DrLakshman Jha Parimal
फ़ानी
फ़ानी
Shyam Sundar Subramanian
"मुद्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
सारे गुनाहगार खुले घूम रहे हैं
सारे गुनाहगार खुले घूम रहे हैं
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
आज फिर से
आज फिर से
Madhuyanka Raj
मौसम का क्या मिजाज है मत पूछिए जनाब।
मौसम का क्या मिजाज है मत पूछिए जनाब।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कहे महावर हाथ की,
कहे महावर हाथ की,
sushil sarna
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Prakash Chandra
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है " रवि " समय की रफ्तार मेँ हर कोई गिरफ्तार है
Sahil Ahmad
मैं घर आंगन की पंछी हूं
मैं घर आंगन की पंछी हूं
करन ''केसरा''
🙅याद रखना🙅
🙅याद रखना🙅
*प्रणय प्रभात*
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
Manisha Manjari
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...