Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से

हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से, घिरी घटा घंघोर|
पेड़ संग में झूल रहे सब, पत्ते करते शोर|

बादल करते घनर-घनर कर, बारिश का एलान|
पक्षी उड़ते आसमान में, छेड़े मधुरम तान|
मोर ताकते आसमान में, आया है चितचोर|
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से, घिरी घटा घंघोर|

आंगन में है भीड़-भड़क्का, बिछा हुआ है खाट|
बैठ हवा में गप्पे मारे, खाते सब मिल बाट|
बच्चे करते हल्ला-गुल्ला, लगा रहे हरहोर|
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से, घिरी घटा घंघोर|

तभी हवा ने मुखरा बदला, टिप-टिप गिरती बूँद|
मज़ा ले रहे बारिश का सब, अपनी आँखें मूँद|
नाच रहे सब छम-छम कर के, बाँध प्रीत की डोर|
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से, घिरी घटा घंघोर|

वेधा सिंह

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राम आ गए
राम आ गए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आरुणि की गुरुभक्ति
आरुणि की गुरुभक्ति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"सत्य"
Dr. Kishan tandon kranti
सुनले पुकार मैया
सुनले पुकार मैया
Basant Bhagawan Roy
7) पूछ रहा है दिल
7) पूछ रहा है दिल
पूनम झा 'प्रथमा'
23/199. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/199. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*बताओं जरा (मुक्तक)*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
कवि दीपक बवेजा
त्याग
त्याग
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Ram Krishan Rastogi
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
प्रेम की अनुपम धारा में कोई कृष्ण बना कोई राधा
प्रेम की अनुपम धारा में कोई कृष्ण बना कोई राधा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
it's a generation of the tired and fluent in silence.
it's a generation of the tired and fluent in silence.
पूर्वार्थ
कुंंडलिया-छंद:
कुंंडलिया-छंद:
जगदीश शर्मा सहज
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
ख़ुद को यूं ही
ख़ुद को यूं ही
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
शायर देव मेहरानियां
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
लक्ष्मी सिंह
राम-राज्य
राम-राज्य
Shekhar Chandra Mitra
सुंदरता विचारों व चरित्र में होनी चाहिए,
सुंदरता विचारों व चरित्र में होनी चाहिए,
Ranjeet kumar patre
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
Rj Anand Prajapati
💐प्रेम कौतुक-255💐
💐प्रेम कौतुक-255💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
समय
समय
Neeraj Agarwal
दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो
दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो
शेखर सिंह
फितरत
फितरत
umesh mehra
प्यासा मन
प्यासा मन
नेताम आर सी
वक्त
वक्त
Madhavi Srivastava
शिक्षक
शिक्षक
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
*सजती हाथों में हिना, मना तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
*सजती हाथों में हिना, मना तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...