Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2017 · 1 min read

हर सफर में मुस्कुराना चाहिए

फ़ासलें दिल के मिटाना चाहिए
फूल होठों पर खिलाना चाहिए

हर दुआ होगी तेरी पूरी मगर
सर इबादत में झुकाना चाहिए

ग़म मिले हमको या मिल जाये ख़ुशी
हर सफर में मुस्कुराना चाहिए

क्या हुआ त्यौहार कोई है नहीं
घर पड़ोसी को बुलाना चाहिए

शर्म से सर ना झुके जब दोस्त हों
दुश्मनी को यूँ निभाना चाहिए

बेटियां भी घर की होती शान हैं
बेटियों को भी पढ़ाना चाहिए

कुछ यहाँ पर देख नामुमकिन नहीं
आग पानी में लगाना चाहिए

गर दिलों में नफ़रतें ही हैं भरी
इक नई दुनिया बसाना चाहिए

थी नहीं चिंता न कोई थी फ़िकर
फिर अदिति बचपन सजाना चाहिए

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’

1 Like · 1 Comment · 536 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
लोग जीते जी भी तो
लोग जीते जी भी तो
Dr fauzia Naseem shad
चलते चलते
चलते चलते
ruby kumari
जीवन है बस आँखों की पूँजी
जीवन है बस आँखों की पूँजी
Suryakant Dwivedi
'वर्दी की साख'
'वर्दी की साख'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कौन है जो तुम्हारी किस्मत में लिखी हुई है
कौन है जो तुम्हारी किस्मत में लिखी हुई है
कवि दीपक बवेजा
वो सब खुश नसीब है
वो सब खुश नसीब है
शिव प्रताप लोधी
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
*एकता (बाल कविता)*
*एकता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
चांद छुपा बादल में
चांद छुपा बादल में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
होगा बढ़िया व्यापार
होगा बढ़िया व्यापार
Buddha Prakash
फितरती फलसफा
फितरती फलसफा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
जय अयोध्या धाम की
जय अयोध्या धाम की
Arvind trivedi
आपातकाल
आपातकाल
Shekhar Chandra Mitra
सत्य की खोज
सत्य की खोज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पिता
पिता
विजय कुमार अग्रवाल
मुख्तशर सी जिन्दगी हैं,,,
मुख्तशर सी जिन्दगी हैं,,,
Taj Mohammad
विश्वास
विश्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोहे
दोहे "हरियाली तीज"
Vaishali Rastogi
जो चाकर हैं राम के
जो चाकर हैं राम के
महेश चन्द्र त्रिपाठी
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
" प्रिये की प्रतीक्षा "
DrLakshman Jha Parimal
- अब नहीं!!
- अब नहीं!!
Seema gupta,Alwar
अपना...❤❤❤
अपना...❤❤❤
Vishal babu (vishu)
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
Rakesh Bahanwal
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
Atul "Krishn"
"बरसात"
Dr. Kishan tandon kranti
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
Rj Anand Prajapati
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
3216.*पूर्णिका*
3216.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...