Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2023 · 2 min read

” हर वर्ग की चुनावी चर्चा “

” हर वर्ग की चुनावी चर्चा ”
पशु पक्षी जानवर सभी छोटे बड़ों ने सजाई है चौपाल
लगे हैं आज सभी अपनी ढपली अपना राग अलापने
देखें जहां वहां पर सिर्फ नेताजी का घूमता काफिला
क्योंकि हर तरफ चुनावी चर्चा का ही फैला माहौल है,
पंद्रह बीस चिड़िया आ बैठी जीप लाइन के तारों पर
चू चू चू चू बस सुन रहा है उनका चू चू चू चू का स्वर
बीजेपी, कांग्रेस अलाप रहा है कोई तो कोई बसपा
आर एल पी, जे जे पी कोई निर्दलीय का दीवाना है,
दस मीटर दूर एक कबूतर बैठा चुपचाप सा देख रहा
उसकी जात बिरादरी अलग तो पंचायत में जगह नहीं
सुन सकता है लेकिन चर्चा में शामिल नहीं हो सकता
जातिगत जनगणना ने माहौल ही ऐसा बना दिया है,
अचानक से झोंका आया हवा का तो तार हिल गया
एकदम से चर्चा थम गई और सभी चले अपने रास्ते
लेक कॉटेज के सामने रानू रोमी अपनी चर्चा में व्यस्त
चारों ओर सिर्फ भागा दौड़ी ही बस नजर आ रही है,
कोयल दिखी तो चुग्गा बिस्किट का डाल दिया राज ने
ये क्या बहुमत प्राप्त कोयल ने बुलबुल को भगाया
लगता है राजनीति का चस्का लग गया है इनको भी
हर कोई बहुमत के नशे में मदमस्त हुआ घूम रहा है,
गोते खाते बतख भी शामिल होना चाहते चर्चा में तो
थल चर से अलग बिरादरी तो नामुमकिन सा ये लगे
झुरमुट बने बहुमत में घुस जाएं कहां बेचारों की हिम्मत
नर तो नर जलचर भी चुनावी चर्चा में मशगूल आज है,
प्रभात में उठते ही कॉटेज से बाहर आए जब राज मीनू
तीन कुत्ते दौड़े दौड़े पास आकर लुटमुटाने लगे पैरों में
उ उ उ उ का राग अलापते जैसे हमें बता रहें हो कि
वोट मांगने हमारे गांव में आज नेताजी पधारे हुए हैं,
पुरातन काल से सुना हमने मुर्गा प्रभात में जगाता है
आश्चर्य हुआ जब सुबह नौ बजे मुर्गे ने तेज बांग दी
चुनावी मुर्गा रात को वोट मांगता इसलिए लेट उठता
असर इस चुनाव का आजकल मुर्गे पर भी गहराया है,
इन सबसे अलग दिखा पूनिया को मोटा सा मकोड़ा
घूम रहा था सबसे अलग थलग अपनी ही धुन में वो
अरे अब पता चला इसे चुनावी बुखार नहीं हुआ है,
उसी जगह मीनू बैठी है जो चर्चा में तो शामिल नहीं
ना ही वो नेताजी की वोट गिनती में शामिल हुई है
फैला हुआ दिखाई दे रहा चारों ओर चुनाव का भूत
मीनू इस चुनावी माहौल की साक्ष्य जरूरी बनी हुई है।

Language: Hindi
1 Like · 189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
"" *आओ करें कृष्ण चेतना का विकास* ""
सुनीलानंद महंत
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपने  ही  हाथों  से अपना, जिगर जलाए बैठे हैं,
अपने ही हाथों से अपना, जिगर जलाए बैठे हैं,
Ashok deep
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
Rekha khichi
यादों के गुलाब
यादों के गुलाब
Neeraj Agarwal
पर्यावरण
पर्यावरण
नवीन जोशी 'नवल'
न बदले...!
न बदले...!
Srishty Bansal
धरी नहीं है धरा
धरी नहीं है धरा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मंटू और चिड़ियाँ
मंटू और चिड़ियाँ
SHAMA PARVEEN
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
कौन गया किसको पता ,
कौन गया किसको पता ,
sushil sarna
जिंदगी की दास्तां,, ग़ज़ल
जिंदगी की दास्तां,, ग़ज़ल
Namita Gupta
बच्चे ही मां बाप की दुनियां होते हैं।
बच्चे ही मां बाप की दुनियां होते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
जिस के पास एक सच्चा दोस्त है
जिस के पास एक सच्चा दोस्त है
shabina. Naaz
हर वर्ष जला रहे हम रावण
हर वर्ष जला रहे हम रावण
Dr Manju Saini
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
हमने क्या खोया
हमने क्या खोया
Dr fauzia Naseem shad
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
गीत - मेरी सांसों में समा जा मेरे सपनों की ताबीर बनकर
गीत - मेरी सांसों में समा जा मेरे सपनों की ताबीर बनकर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
" सब भाषा को प्यार करो "
DrLakshman Jha Parimal
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
स्वजातीय विवाह पर बंधाई
स्वजातीय विवाह पर बंधाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मेरी कलम से बिखरी स्याही कभी गुनगुनाएंगे,
मेरी कलम से बिखरी स्याही कभी गुनगुनाएंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
23/103.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/103.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जख्म भरता है इसी बहाने से
जख्म भरता है इसी बहाने से
Anil Mishra Prahari
दिल  धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
दिल धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
Dr.Rashmi Mishra
Loading...