Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-36💐

हर बात कही गई मुझसे,हर ख़्वाब दिखाया गया,
सादगी से लगे, पर लम्हें-लम्हें पर जलाया गया।।

©©अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
46 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
"लक्ष्य"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
/// जीवन ///
/// जीवन ///
जगदीश लववंशी
अब तक मैं
अब तक मैं
gurudeenverma198
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
शृंगार छंद
शृंगार छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐अज्ञात के प्रति-28💐
💐अज्ञात के प्रति-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम की राख
प्रेम की राख
Buddha Prakash
"वो गुजरा जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते हैं, पर उनकी बातों में विश
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते हैं, पर उनकी बातों में विश
जय लगन कुमार हैप्पी
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
seema varma
आवारगी मिली
आवारगी मिली
Satish Srijan
मेरी नज़्म, शायरी,  ग़ज़ल, की आवाज हो तुम
मेरी नज़्म, शायरी, ग़ज़ल, की आवाज हो तुम
अनंत पांडेय "INϕ9YT"
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
चुपके से चले गये तुम
चुपके से चले गये तुम
Surinder blackpen
पहला प्यार
पहला प्यार
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ठोकरें कितनी खाई है राहों में कभी मत पूछना
ठोकरें कितनी खाई है राहों में कभी मत पूछना
कवि दीपक बवेजा
আজকের মানুষ
আজকের মানুষ
Ahtesham Ahmad
एहसास दिला देगा
एहसास दिला देगा
Dr fauzia Naseem shad
विरहन
विरहन
umesh mehra
गुमान किस बात का
गुमान किस बात का
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आओ बुद्ध की ओर चलें
आओ बुद्ध की ओर चलें
Shekhar Chandra Mitra
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बीते कल की रील
बीते कल की रील
Sandeep Pande
■ चुनावी साल...
■ चुनावी साल...
*Author प्रणय प्रभात*
“ बुजुर्ग और कंप्युटर ”
“ बुजुर्ग और कंप्युटर ”
DrLakshman Jha Parimal
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
आए प्रभु करके कृपा , इतने दिन के बाद (कुंडलिया)
आए प्रभु करके कृपा , इतने दिन के बाद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ग़ज़ल - इश्क़ है
ग़ज़ल - इश्क़ है
Mahendra Narayan
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
कटी नयन में रात...
कटी नयन में रात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...