Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Nov 2023 · 1 min read

हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है

#दिनांक:-22/11/2023
#शीर्षक:- हम हिन्दी,हिन्दू,हिन्दुस्तान हैं।

आशा ही जीवन है,
जीवन ही प्रेम है,
प्रेम ही साहित्य है,
साहित्य से हम हैं,
हम सब से समाज है।
समाज से परिवार है,
परिवार से संस्कार है,
संस्कार से संस्कृति है।
संस्कृति से देश की पहचान है,
देश हमारा अभिमान है,
अभिमान ये है कि,
हम हिन्दी, हिन्दू, हिन्दुस्तान हैं,।
वीर जवान हिन्दुस्तान की शान हैं,
वीरों की बदौलत ही मेरा देश महान है।
महान हिन्दू धर्म के रक्षक राम हैं,
रामराज्य बनना,
सनातन का पुनः उत्थान है।
पुनः उत्थान ही जीवंत जीवन है,
जीवन का आधार समस्त से प्रेम है |
(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
नाम मौहब्बत का लेकर मेरी
नाम मौहब्बत का लेकर मेरी
Phool gufran
Just like a lonely star, I am staying here visible but far.
Just like a lonely star, I am staying here visible but far.
Manisha Manjari
काफी है
काफी है
Basant Bhagawan Roy
आधुनिक भारत के कारीगर
आधुनिक भारत के कारीगर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*मोती (बाल कविता)*
*मोती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
गुलाम
गुलाम
Punam Pande
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
Neelam Sharma
कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,
कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,
Shweta Soni
छोड़ चली तू छोड़ चली
छोड़ चली तू छोड़ चली
gurudeenverma198
■ ख़ास दिन, ख़ास दोहा
■ ख़ास दिन, ख़ास दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
*हैं जिनके पास अपने*,
*हैं जिनके पास अपने*,
Rituraj shivem verma
विनय
विनय
Kanchan Khanna
।। रावण दहन ।।
।। रावण दहन ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
गीत
गीत
Mahendra Narayan
सेर (शृंगार)
सेर (शृंगार)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
2289.पूर्णिका
2289.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जो कुछ भी है आज है,
जो कुछ भी है आज है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
When the ways of this world are, but
When the ways of this world are, but
Dhriti Mishra
"दो धाराएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
बंसत पचंमी
बंसत पचंमी
Ritu Asooja
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज से
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज से
Dr fauzia Naseem shad
*Treasure the Nature*
*Treasure the Nature*
Poonam Matia
6. *माता-पिता*
6. *माता-पिता*
Dr Shweta sood
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
नेताम आर सी
धरती पर स्वर्ग
धरती पर स्वर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
तुम ही तो हो
तुम ही तो हो
Ashish Kumar
*कर्मफल सिद्धांत*
*कर्मफल सिद्धांत*
Shashi kala vyas
Loading...