Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-435💐

हम तो फ़क़ीर हैं,हम क्यों दें किसी को अब कोई प्रेम? हमें दो तुम फ़क़ीरी में।इस दुनिया में सब फ़क़ीर है।मुझसे लिख के ले लो।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुझे भूले कैसे।
तुझे भूले कैसे।
Taj Mohammad
पिता
पिता
Manu Vashistha
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
*शहर की जिंदगी*
*शहर की जिंदगी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पत्रकार की कलम देख डरे
पत्रकार की कलम देख डरे
Neeraj Mishra " नीर "
23/24.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/24.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चलो रे काका वोट देने
चलो रे काका वोट देने
gurudeenverma198
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
प्यार भरा इतवार
प्यार भरा इतवार
Manju Singh
आज फ़िर एक
आज फ़िर एक
हिमांशु Kulshrestha
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
"मुद्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
धीरज और संयम
धीरज और संयम
ओंकार मिश्र
*गीत*
*गीत*
Poonam gupta
!! सोपान !!
!! सोपान !!
Chunnu Lal Gupta
#दिनांक:-19/4/2024
#दिनांक:-19/4/2024
Pratibha Pandey
मैं उनकी ज़फाएं सहे जा रहा हूॅं।
मैं उनकी ज़फाएं सहे जा रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
तेरी मधुर यादें
तेरी मधुर यादें
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
गुज़रे वक़्त ने छीन लिया था सब कुछ,
गुज़रे वक़्त ने छीन लिया था सब कुछ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*प्रणय प्रभात*
*लव इज लाईफ*
*लव इज लाईफ*
Dushyant Kumar
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
DrLakshman Jha Parimal
जब सब्र आ जाये तो....
जब सब्र आ जाये तो....
shabina. Naaz
नज़्म _ तन्हा कश्ती , तन्हा ये समन्दर है ,
नज़्म _ तन्हा कश्ती , तन्हा ये समन्दर है ,
Neelofar Khan
प्रकट भये दीन दयाला
प्रकट भये दीन दयाला
Bodhisatva kastooriya
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
Shashi Dhar Kumar
लिख देती है कवि की कलम
लिख देती है कवि की कलम
Seema gupta,Alwar
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
त्रेतायुग-
त्रेतायुग-
Dr.Rashmi Mishra
Loading...