Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2016 · 1 min read

हम तो परदे खोल रहे हैं

हम तो परदे खोल रहे हैं
क्यों सिंहासन डोल रहे हैं

बेड़ा गरक हो चुका उनका
फिर भी नफरत घोल रहे हैं

खुसुर पुसुर है घर पर, जिनके
खातों में कुछ झोल रहे हैं

बदल रहे इतिहास देश का
और बदल भूगोल रहे हैं

कितनी खुश है, नन्हीं गुड़िया
उसके सिक्के बोल रहे हैं

फिंके आज रद्दी की माफिक
जो इक दिन अनमोल रहे हैं

झाँक रहे हैं बगलें अब तो
जो भी गोल मटोल रहे हैं

पापी सभी सजा पायेंगे
जिनके जैसे रोल रहें हैं

बड़े नोट कोने में छुपकर
आज समय को तोल रहे हैं

1 Like · 1 Comment · 224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"पवित्र पौधा"
Dr. Kishan tandon kranti
नज़्म
नज़्म
Neelofar Khan
धरती के भगवान
धरती के भगवान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीने का हक़!
जीने का हक़!
कविता झा ‘गीत’
खुशी -उदासी
खुशी -उदासी
SATPAL CHAUHAN
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।
कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।
Manisha Manjari
अति मंद मंद , शीतल बयार।
अति मंद मंद , शीतल बयार।
Kuldeep mishra (KD)
ख़ामोश हर ज़ुबाँ पर
ख़ामोश हर ज़ुबाँ पर
Dr fauzia Naseem shad
जिसके हृदय में जीवों के प्रति दया है,
जिसके हृदय में जीवों के प्रति दया है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कुछ बातें मन में रहने दो।
कुछ बातें मन में रहने दो।
surenderpal vaidya
जो महा-मनीषी मुझे
जो महा-मनीषी मुझे
*प्रणय प्रभात*
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
पर्यावरण
पर्यावरण
Dinesh Kumar Gangwar
*कमबख़्त इश्क़*
*कमबख़्त इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शीर्षक - चाय
शीर्षक - चाय
Neeraj Agarwal
अच्छे दामों बिक रहे,
अच्छे दामों बिक रहे,
sushil sarna
आखिरी मोहब्बत
आखिरी मोहब्बत
Shivkumar barman
दर्दे दिल…….!
दर्दे दिल…….!
Awadhesh Kumar Singh
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
शेखर सिंह
चार बजे
चार बजे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
दिल का गुस्सा
दिल का गुस्सा
Madhu Shah
*
*"ममता"* पार्ट-5
Radhakishan R. Mundhra
2947.*पूर्णिका*
2947.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नूर ए मुजस्सम सा चेहरा है।
नूर ए मुजस्सम सा चेहरा है।
Taj Mohammad
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
"Recovery isn’t perfect. it can be thinking you’re healed fo
पूर्वार्थ
शासक सत्ता के भूखे हैं
शासक सत्ता के भूखे हैं
DrLakshman Jha Parimal
Loading...