Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2023 · 1 min read

*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*

हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)
———————————————-
(1)
भतीजों पर लुटाने प्यार, घर आती बुआऍं हैं
हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं
(2)
पिता-बाबा के बीते संग, इनको याद किस्से हैं
इसी से संस्कारों को, निभा पाती बुआऍं हैं
(3)
पिता-बाबा के आँगन में, पली हैं यह मधुर कलिका
महक से मैके की ससुराल, महकाती बुआऍं हैं
(4)
पुराना छिड़ गया किस्सा, तो फिर किस्से नहीं थमते
हजारों याद बचपन वाली, दोहराती बुआऍं हैं
(5)
ढलीं संयम के सॉंचे में, दादी और बाबा के
पुराने दौर के इतिहास, की थाती बुआऍं हैं
———————+———
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

278 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
Buddha Prakash
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे  शुभ दिन है आज।
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे शुभ दिन है आज।
Anil chobisa
* हाथ मलने लगा *
* हाथ मलने लगा *
surenderpal vaidya
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
याद आए दिन बचपन के
याद आए दिन बचपन के
Manu Vashistha
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
"संघर्ष "
Yogendra Chaturwedi
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*मैं बच्चों की तरह हर रोज, सारे काम करता हूँ (हिंदी गजल/गीति
*मैं बच्चों की तरह हर रोज, सारे काम करता हूँ (हिंदी गजल/गीति
Ravi Prakash
छत्तीसगढ़ के युवा नेता शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana
छत्तीसगढ़ के युवा नेता शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana
Bramhastra sahityapedia
रूबरू।
रूबरू।
Taj Mohammad
■ सियासी ग़ज़ल
■ सियासी ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
अंतर्राष्ट्रीय पाई दिवस पर....
अंतर्राष्ट्रीय पाई दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं बनना चाहता हूँ तुम्हारा प्रेमी,
मैं बनना चाहता हूँ तुम्हारा प्रेमी,
Dr. Man Mohan Krishna
श्रेष्ठता
श्रेष्ठता
Paras Nath Jha
चाहते हैं हम यह
चाहते हैं हम यह
gurudeenverma198
26. ज़ाया
26. ज़ाया
Rajeev Dutta
लिपटी परछाइयां
लिपटी परछाइयां
Surinder blackpen
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
3235.*पूर्णिका*
3235.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वृद्धाश्रम इस समस्या का
वृद्धाश्रम इस समस्या का
Dr fauzia Naseem shad
!! दूर रहकर भी !!
!! दूर रहकर भी !!
Chunnu Lal Gupta
World tobacco prohibition day
World tobacco prohibition day
Tushar Jagawat
धीरे धीरे
धीरे धीरे
रवि शंकर साह
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
Phool gufran
विश्व जल दिवस
विश्व जल दिवस
Dr. Kishan tandon kranti
चुनाव 2024
चुनाव 2024
Bodhisatva kastooriya
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
Poonam Matia
शाम
शाम
N manglam
Loading...