Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

हमें जीना सिखा रहे थे।

ज़माने से कितने खफा और नाराज थे,
अपनों से बेगानों-सा वफ़ा निभा रहे थे,
कोशिशें नफ़रत जताने वालोंं की हमसे थी इतनी ,
उनकी हर क्रिया से मुश्किलें नज़र आ रही थी।

हर तरीके से जो हमें सता रहे थे,
उनके इस बातों से बेवजह नाराजगी थी हमें,
फितरत थी जिनकी अपनी भड़ास निकाल रहे थे,
बेबुनियाद आरोप उनको लगा रहे थे।

वो हमें सताते थे इतना ,
मुश्किलें राहों की बढ़ा रहे थे,
समझा खुद को अपने तर्ज पर उनको जब,
कहीं न कहीं हमें जीना सिखा रहे थे।

भाव और भावनाओं को समझा हमने,
उनके इरादों को प्रेम से तौला जब से,
हर वार उनका जख्म बढ़ाते थे,
फिर भी हमें जीना सिख़ला रहे थे।

रचनाकार-
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

2 Likes · 2 Comments · 346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
कब मैंने चाहा सजन
कब मैंने चाहा सजन
लक्ष्मी सिंह
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
Neeraj Agarwal
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
sushil sarna
■ अवतरण पर्व
■ अवतरण पर्व
*Author प्रणय प्रभात*
बहाना मिल जाए
बहाना मिल जाए
Srishty Bansal
ई-संपादक
ई-संपादक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वर्षा रानी⛈️
वर्षा रानी⛈️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
प्रणय 2
प्रणय 2
Ankita Patel
मेरी तू  रूह  में  बसती  है
मेरी तू रूह में बसती है
डॉ. दीपक मेवाती
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
Dr. Vaishali Verma
कलियुग
कलियुग
Prakash Chandra
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
कवि रमेशराज
कांटा
कांटा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
Neelam Sharma
इंद्रदेव की बेरुखी
इंद्रदेव की बेरुखी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब तलक तुमको
अब तलक तुमको
Dr fauzia Naseem shad
رام کے نام کی سب کو یہ دہائی دینگے
رام کے نام کی سب کو یہ دہائی دینگے
अरशद रसूल बदायूंनी
करीब हो तुम किसी के भी,
करीब हो तुम किसी के भी,
manjula chauhan
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अब इस मुकाम पर आकर
अब इस मुकाम पर आकर
shabina. Naaz
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
जब  भी  तू  मेरे  दरमियाँ  आती  है
जब भी तू मेरे दरमियाँ आती है
Bhupendra Rawat
नफ़रत की आग
नफ़रत की आग
Shekhar Chandra Mitra
चंदा मामा (बाल कविता)
चंदा मामा (बाल कविता)
Ravi Prakash
"राज़-ए-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"काला पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
लिखना चाहूँ  अपनी बातें ,  कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
लिखना चाहूँ अपनी बातें , कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
DrLakshman Jha Parimal
लम्हा-लम्हा
लम्हा-लम्हा
Surinder blackpen
Loading...