Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2024 · 1 min read

“हमारे दर्द का मरहम अगर बनकर खड़ा होगा

“हमारे दर्द का मरहम अगर बनकर खड़ा होगा
हक़ीक़त में कहेंगे तब बड़ा हमसे ज़माना है”

आर. एस. ‘प्रीतम’

1 Like · 54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
वतन
वतन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
3279.*पूर्णिका*
3279.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
शुभ रात्रि मित्रों
शुभ रात्रि मित्रों
आर.एस. 'प्रीतम'
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
Divya Mishra
तक़दीर का ही खेल
तक़दीर का ही खेल
Monika Arora
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भले नफ़रत हो पर हम प्यार का मौसम समझते हैं.
भले नफ़रत हो पर हम प्यार का मौसम समझते हैं.
Slok maurya "umang"
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/ "पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
टूटी हुई उम्मीद की सदाकत बोल देती है.....
टूटी हुई उम्मीद की सदाकत बोल देती है.....
कवि दीपक बवेजा
*इन तीन पर कायम रहो*
*इन तीन पर कायम रहो*
Dushyant Kumar
बोले सब सर्दी पड़ी (हास्य कुंडलिया)
बोले सब सर्दी पड़ी (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
देश प्रेम
देश प्रेम
Dr Parveen Thakur
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
न जाने कहाँ फिर से, उनसे मुलाकात हो जाये
न जाने कहाँ फिर से, उनसे मुलाकात हो जाये
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
Dr. Man Mohan Krishna
🙅मैं नहीं कहता...🙅
🙅मैं नहीं कहता...🙅
*प्रणय प्रभात*
"सन्देशा भेजने हैं मुझे"
Dr. Kishan tandon kranti
.......,,
.......,,
शेखर सिंह
আগামীকালের স্ত্রী
আগামীকালের স্ত্রী
Otteri Selvakumar
नववर्ष
नववर्ष
Mukesh Kumar Sonkar
"इशारे" कविता
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
कृष्णकांत गुर्जर
चंद हाईकु
चंद हाईकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
जगदीश शर्मा सहज
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
कवि रमेशराज
दीपावली
दीपावली
Deepali Kalra
चांद भी आज ख़ूब इतराया होगा यूं ख़ुद पर,
चांद भी आज ख़ूब इतराया होगा यूं ख़ुद पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
Surinder blackpen
Loading...