Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-497💐

हमारी ज़िंदगी बहुत अच्छी गुज़रेगी,उनकी कैसे,
गुलाबों की तस्वीर खींचते रहना,ज़िंदगी की नहीं,
कोई इंक़िलाब तुमसे न होगा,इरादे बदलोगे कैसे,
दूर चले जाओ कहीं,किसी बात की उम्मीद ही नहीं।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
34 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
बेवफा
बेवफा
RAKESH RAKESH
💐प्रेम कौतुक-256💐
💐प्रेम कौतुक-256💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आई होली
आई होली
Kavita Chouhan
"जंगल की सैर"
पंकज कुमार कर्ण
सुबह को सुबह
सुबह को सुबह
rajeev ranjan
गम
गम
जय लगन कुमार हैप्पी
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
Prabhu Nath Chaturvedi
स्वदेशी के नाम पर
स्वदेशी के नाम पर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बेहयाई दुनिया में इस कदर छाई ।
बेहयाई दुनिया में इस कदर छाई ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
राह हूं या राही हूं या मंजिल हूं राहों की
राह हूं या राही हूं या मंजिल हूं राहों की
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
अपने और पराए
अपने और पराए
Sushil chauhan
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
'मजदूर'
'मजदूर'
Godambari Negi
मेरी कविताएं
मेरी कविताएं
Satish Srijan
*नन्ही सी गौरीया*
*नन्ही सी गौरीया*
Shashi kala vyas
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
सूर्यकांत द्विवेदी
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
मुझे विवाद में
मुझे विवाद में
*Author प्रणय प्रभात*
समझे वही हक़ीक़त
समझे वही हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
मैं और तुम-कविता
मैं और तुम-कविता
Shyam Pandey
कल तक थे वो पत्थर।
कल तक थे वो पत्थर।
Taj Mohammad
"ये कैसा दस्तूर?"
Dr. Kishan tandon kranti
करो कुछ मेहरबानी यूँ,
करो कुछ मेहरबानी यूँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
मनोज कर्ण
*वाह-वाह क्या बात (कुंडलिया)*
*वाह-वाह क्या बात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
कहना ही है
कहना ही है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
हवा बहुत सर्द है
हवा बहुत सर्द है
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...