Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2023 · 1 min read

*हमारा संविधान*

हमारा संविधान
डॉ.अम्बेडकर शत-शत नमन, दिया अमूल्य संविधान।
मेरे लिए भी है यह, पवित्र ग्रंथ महान।।१।।
संविधान है हम हैं, कर लो इसका पान।
यह तुम्हें बचाएगा, कठिन घड़ी में आन।।२।।
दुनिया का पवित्र ग्रंथ, इससे चलता देश।
एक बनाए एकता में पिरोए,न करें कोई द्वेष।।३।।
सब मानव समान है, यही इसकी पहचान।
जाति धर्म चाहे कुछ हों, समान सब इंसान।।४।।
एक लाइन में खड़ा करें, राजा हो चाहे रंक।
बिना इसके न देश चले, ऐसा इसका ढंग।।५।।
समय मिले इसको पढ़ो, समझो इसका सार‌।
यही तुम्हें बचाएगा, जब बीच आओ मझधार।।६।।
चारों ओर से नोचते, इस ग्रंथ को आज।
ऐसे भेड़ियों से बचाओ, रहे इसका राज।।७।।
अधिकार समान दिए, नर हो चाहे नारी।
बचा लो इस ग्रंथ को, खुद मुश्किल में भारी।।८।।
दुष्यन्त कुमार बता रहा, संविधान है खास।
इसके अतिरिक्त नहीं है, और पर विश्वास।।९।।

7 Likes · 163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
सवेदना
सवेदना
Harminder Kaur
.......,,
.......,,
शेखर सिंह
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
भगवान श्री परशुराम जयंती
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चिंगारी के गर्भ में,
चिंगारी के गर्भ में,
sushil sarna
मन तो बावरा है
मन तो बावरा है
हिमांशु Kulshrestha
हँसते गाते हुए
हँसते गाते हुए
Shweta Soni
मुर्दे भी मोहित हुए
मुर्दे भी मोहित हुए
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
है गरीबी खुद ही धोखा और गरीब भी, बदल सके तो वह शहर जाता है।
है गरीबी खुद ही धोखा और गरीब भी, बदल सके तो वह शहर जाता है।
Sanjay ' शून्य'
दिल शीशे सा
दिल शीशे सा
Neeraj Agarwal
विद्यापति धाम
विद्यापति धाम
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
डॉ.सीमा अग्रवाल
सबूत- ए- इश्क़
सबूत- ए- इश्क़
राहुल रायकवार जज़्बाती
23/135.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/135.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यारी
यारी
Dr. Mahesh Kumawat
तंग अंग  देख कर मन मलंग हो गया
तंग अंग देख कर मन मलंग हो गया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
कवि दीपक बवेजा
*दहेज*
*दहेज*
Rituraj shivem verma
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
राम तुम्हारे नहीं हैं
राम तुम्हारे नहीं हैं
Harinarayan Tanha
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
मतदान करो
मतदान करो
TARAN VERMA
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
कवि रमेशराज
*जय हनुमान वीर बलशाली (कुछ चौपाइयॉं)*
*जय हनुमान वीर बलशाली (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
"विश्वास का दायरा"
Dr. Kishan tandon kranti
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
Vivek Mishra
Loading...