Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-321💐

हमारा जो हुआ सो हुआ ‘बे-एतिबार’ के संग,
किसी रंग से न रंगोगे,जब चढा है मेरा ही रंग।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
40 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
Bodhisatva kastooriya
वीज़ा के लिए इंतज़ार
वीज़ा के लिए इंतज़ार
Shekhar Chandra Mitra
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
'मौन अभिव्यक्ति'
'मौन अभिव्यक्ति'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सफल इंसान की खूबियां
सफल इंसान की खूबियां
Pratibha Kumari
बस एक गलती
बस एक गलती
Vishal babu (vishu)
नारी
नारी
डॉ प्रवीण ठाकुर
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
"समय से बड़ा जादूगर दूसरा कोई नहीं,
तरुण सिंह पवार
हमें सूरज की तरह चमकना है, सब लोगों के दिलों में रहना है,
हमें सूरज की तरह चमकना है, सब लोगों के दिलों में रहना है,
DrLakshman Jha Parimal
💐प्रेम कौतुक-373💐
💐प्रेम कौतुक-373💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
52 बुद्धों का दिल
52 बुद्धों का दिल
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
■ शेर
■ शेर
*Author प्रणय प्रभात*
आज नहीं तो निश्चय कल
आज नहीं तो निश्चय कल
Satish Srijan
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
डी. के. निवातिया
रोते घर के चार जन , हँसते हैं जन चार (कुंडलिया)
रोते घर के चार जन , हँसते हैं जन चार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
" फ़साने हमारे "
Aarti sirsat
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
*नीम का पेड़* कहानी - लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा
*नीम का पेड़* कहानी - लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा
Radhakishan Mundhra
हर बार तुम गिरोगे,हर बार हम उठाएंगे ।
हर बार तुम गिरोगे,हर बार हम उठाएंगे ।
Buddha Prakash
पसोपेश,,,उमेश के हाइकु
पसोपेश,,,उमेश के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
Ranjeet Kumar Shukla
*सुविचरण*
*सुविचरण*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
Nav Lekhika
हमको जो समझें
हमको जो समझें
Dr fauzia Naseem shad
Never Run
Never Run
Dr. Rajiv
कट्टरता बड़ा या मानवता
कट्टरता बड़ा या मानवता
राकेश कुमार राठौर
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
Shivkumar Bilagrami
51-   प्रलय में भी…
51- प्रलय में भी…
Rambali Mishra
Loading...