Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2016 · 1 min read

हमसफर ! आफताब था उसका

“ज़ह्न तो लाजवाब था उसका
दिन ही शायद ख़राब था उसका

जबकि मेरा सवाल सीधा था
फ़िर भी उलटा जवाब था उसका

वो महज़ धूप का मुसाफिर था
हमसफर ! आफताब था उसका

आँख जैसे कोई समंदर हो
और लहजा शराब था उसका

मुतमईन था वो ज़ात से अपनी
खुद ही वो इंतेखाब था उसका

नासिर राव

1 Comment · 394 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रकाश एवं तिमिर
प्रकाश एवं तिमिर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"ईद-मिलन" हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
🌷मनोरथ🌷
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार कर्ण
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
एक सूखा सा वृक्ष...
एक सूखा सा वृक्ष...
Awadhesh Kumar Singh
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मेरे राम
मेरे राम
Prakash Chandra
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
Dr Manju Saini
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
Harminder Kaur
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
Sukoon
प्यार के सिलसिले
प्यार के सिलसिले
Basant Bhagawan Roy
जरासन्ध के पुत्रों ने
जरासन्ध के पुत्रों ने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
पूर्वार्थ
स्वयंभू
स्वयंभू
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
नया विज्ञापन
नया विज्ञापन
Otteri Selvakumar
माँ दुर्गा की नारी शक्ति
माँ दुर्गा की नारी शक्ति
कवि रमेशराज
आजादी का दीवाना था
आजादी का दीवाना था
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कमीना विद्वान।
कमीना विद्वान।
Acharya Rama Nand Mandal
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
// अगर //
// अगर //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
युक्रेन और रूस ; संगीत
युक्रेन और रूस ; संगीत
कवि अनिल कुमार पँचोली
अभिनेत्री वाले सुझाव
अभिनेत्री वाले सुझाव
Raju Gajbhiye
Labour day
Labour day
अंजनीत निज्जर
👏बुद्धं शरणम गच्छामी👏
👏बुद्धं शरणम गच्छामी👏
*प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दहन
दहन
Shyam Sundar Subramanian
"मकसद"
Dr. Kishan tandon kranti
जख्म भी रूठ गया है अबतो
जख्म भी रूठ गया है अबतो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
आर.एस. 'प्रीतम'
मैं अंधियारों से क्यों डरूँ, उम्मीद का तारा जो मुस्कुराता है
मैं अंधियारों से क्यों डरूँ, उम्मीद का तारा जो मुस्कुराता है
VINOD CHAUHAN
Loading...