Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर

हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
लोग किस्मत का मारा समझने लगे
हमने औरों को मंजिल दिखाई मगर
लोग हमको बंजारा समझने लगे–हमने किस्मत से
दुनिया को था भ्रम टूट जाएंगे हम
ना किया हमने गम ना ऑ॑खें ही नम
हमने लोगों की हिम्मत बंधाई मगर
लोग हमको ही हारा समझने लगे–हमने किस्मत से
साथ अपनों का ना खुदा का मिला
किससे शिकवा करें और किससे गिला
हमने लोगों को लाठी थमाई मगर
वो हमी को बेसहारा समझने लगे–हमने किस्मत से
हाथ थामें किसी का हमसफ़र बनें
इन जीवन की राहों के रहगुजर बनें
हमने सबसे प्रीति निभाई मगर
लोग हमको आवारा समझने लगे–हमने किस्मत से
‘V9द’ हैरत ना कर है जहाॅ॑ बेखबर
कोई सहारा न दे तो भी कर ले बसर
हमने मेहनत की रोटी कमाई मगर
लोग हमको नाकारा समझने लगे–हमने किस्मत से

1 Like · 36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
धीरे धीरे
धीरे धीरे
रवि शंकर साह
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
Arvind trivedi
झुर्री-झुर्री पर लिखा,
झुर्री-झुर्री पर लिखा,
sushil sarna
पुनर्जन्म का साथ
पुनर्जन्म का साथ
Seema gupta,Alwar
गुमनाम शायरी
गुमनाम शायरी
Shekhar Chandra Mitra
संगिनी
संगिनी
Neelam Sharma
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
The_dk_poetry
अहसास
अहसास
Sandeep Pande
(20) सजर #
(20) सजर #
Kishore Nigam
हृदय के राम
हृदय के राम
Er. Sanjay Shrivastava
अध्यापक दिवस
अध्यापक दिवस
SATPAL CHAUHAN
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
Phool gufran
Budhape ki lathi samjhi
Budhape ki lathi samjhi
Sakshi Tripathi
ज़िंदगी...
ज़िंदगी...
Srishty Bansal
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
बालगीत :- चाँद के चर्चे
बालगीत :- चाँद के चर्चे
Kanchan Khanna
अब नहीं पाना तुम्हें
अब नहीं पाना तुम्हें
Saraswati Bajpai
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
नदियों का एहसान
नदियों का एहसान
RAKESH RAKESH
हमारे अच्छे व्यवहार से अक्सर घृणा कर कोसते हैं , गंदगी करते
हमारे अच्छे व्यवहार से अक्सर घृणा कर कोसते हैं , गंदगी करते
Raju Gajbhiye
याद आते हैं
याद आते हैं
Chunnu Lal Gupta
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
Udaya Narayan Singh
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
#एड्स_दिवस_पर_विशेष :-
#एड्स_दिवस_पर_विशेष :-
*Author प्रणय प्रभात*
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
Dr. Narendra Valmiki
मंगल मूरत
मंगल मूरत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*शंकर जी (बाल कविता)*
*शंकर जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...