Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2023 · 1 min read

हजार आंधियां आये

हजार आंधियां आये
हजार तूफ़ाँ आये
जो जल गया चिराग -ए मुहब्बत
वो बुझ नहीं सकता

153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
Dilip Kumar
हया
हया
sushil sarna
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
3119.*पूर्णिका*
3119.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विनती
विनती
Kanchan Khanna
मुझे सोते हुए जगते हुए
मुझे सोते हुए जगते हुए
*Author प्रणय प्रभात*
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
Ravi Prakash
एक बछड़े को देखकर
एक बछड़े को देखकर
Punam Pande
The Journey of this heartbeat.
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
दर्द
दर्द
Dr. Seema Varma
उनकी तस्वीर
उनकी तस्वीर
Madhuyanka Raj
मालूम नहीं, क्यों ऐसा होने लगा है
मालूम नहीं, क्यों ऐसा होने लगा है
gurudeenverma198
बाल कहानी- अधूरा सपना
बाल कहानी- अधूरा सपना
SHAMA PARVEEN
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सामाजिक न्याय
सामाजिक न्याय
Shekhar Chandra Mitra
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
कर गमलो से शोभित जिसका
कर गमलो से शोभित जिसका
प्रेमदास वसु सुरेखा
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उदारता
उदारता
RAKESH RAKESH
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
जिंदगी में कभी उदास मत होना दोस्त, पतझड़ के बाद बारिश ज़रूर आत
जिंदगी में कभी उदास मत होना दोस्त, पतझड़ के बाद बारिश ज़रूर आत
Pushpraj devhare
उजियार
उजियार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
* तुगलकी फरमान*
* तुगलकी फरमान*
Dushyant Kumar
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Sakshi Tripathi
"वाह रे जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
ये ज़िंदगी.....
ये ज़िंदगी.....
Mamta Rajput
Good morning 🌅🌄
Good morning 🌅🌄
Sanjay ' शून्य'
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
तू शौक से कर सितम ,
तू शौक से कर सितम ,
शेखर सिंह
Loading...