Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

“हँसिया”

“हँसिया”
हँसिया होती वक्र समान,
लोहे का यह बना सामान।
जंगल झाड़ी खेत खलियान,
हर जगह देखो इसकी शान।
कामगारों की खास पहचान,
सब करते इसका गुणगान।

1 Like · 1 Comment · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
बेजुबान तस्वीर
बेजुबान तस्वीर
Neelam Sharma
*आए अंतिम साँस, इमरती चखते-चखते (हास्य कुंडलिया)*
*आए अंतिम साँस, इमरती चखते-चखते (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कभी उसकी कदर करके देखो,
कभी उसकी कदर करके देखो,
पूर्वार्थ
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
कवि रमेशराज
मेरी आंखों में कोई
मेरी आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
फ़ितरतन
फ़ितरतन
Monika Verma
धरती पर स्वर्ग
धरती पर स्वर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
शेखर सिंह
वक़्त वो सबसे ही जुदा होगा
वक़्त वो सबसे ही जुदा होगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
Amit Pathak
■ चाह खत्म तो राह खत्म।
■ चाह खत्म तो राह खत्म।
*प्रणय प्रभात*
दुनिया इश्क की दरिया में बह गई
दुनिया इश्क की दरिया में बह गई
प्रेमदास वसु सुरेखा
जन्मदिन की शुभकामना
जन्मदिन की शुभकामना
Satish Srijan
धमकी तुमने दे डाली
धमकी तुमने दे डाली
Shravan singh
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
रेल दुर्घटना
रेल दुर्घटना
Shekhar Chandra Mitra
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
Mangilal 713
दो शे'र ( चाँद )
दो शे'र ( चाँद )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नींद और ख्वाब
नींद और ख्वाब
Surinder blackpen
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
Mahendra Narayan
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
Jogendar singh
आदि गुरु शंकराचार्य जयंती
आदि गुरु शंकराचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"कैंसर की वैक्सीन"
Dr. Kishan tandon kranti
अधूरा घर
अधूरा घर
Kanchan Khanna
कविता ....
कविता ....
sushil sarna
अरमान
अरमान
Neeraj Agarwal
बिन माली बाग नहीं खिलता
बिन माली बाग नहीं खिलता
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
****वो जीवन मिले****
****वो जीवन मिले****
Kavita Chouhan
Loading...