Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2018 · 1 min read

स्वार्थ की भावना

स्वार्थ की भावना

स्वार्थ की भावना से प्रेम किया था।
स्वार्थ सिद्धि पर मख्खी की तरह फेंक दिया था।

जमाने में किसने मोहब्बत का आगाज किया था।
पल भर के लिए क्यों जीना दुस्वार किया था।।।

स्वार्थ की भावना लिये किसने हाथ बढ़ाया था।
लोगो की जिंदगियों का क्यो मखोला उड़ाया था।

लैला और मजनू की प्रेम गाथा को किसने सुनाया था।
हीर और राँझे की वेदना का मर्म की किसने जाना था।।।

स्वार्थ की आड़ में किसने किसको छला था।
आस्तीन का साँप किसने बाजू ओ में पाला था।।।।

किसके मन मे कपट दिल मे चोर छिपा था।
किस भोले भाले का घर उजड़ा था।।।।

स्वार्थ की आंधिया बड़ी लुटेरी होती हैं।
वही सुखी जिसने स्वार्थ को मार गिराया था।।।।

स्वार्थ की भावना से चहु और हाहाकार मचा था।
एक के बाद एक इसमें बर्बाद हुआ था।।।।।

स्वार्थ ने ही अपनो को अपने से दूर किया था।
घर आँगन में और जग में क्लेश किया था।।।।

सोनु नही मिलता स्वार्थ खुद का रखने से।
बिन स्वार्थ से ही सच्चा लोगो को सुख मिला था।।।

रचनाकार
गायत्री सोनु जैन
कॉपीराइट सुरक्षित

Language: Hindi
700 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
Mohan Pandey
न्याय के लिए
न्याय के लिए
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मां का घर
मां का घर
नूरफातिमा खातून नूरी
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तुमको वो पा लेगा इतनी आसानी से
तुमको वो पा लेगा इतनी आसानी से
Keshav kishor Kumar
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
Shweta Soni
शराब का सहारा कर लेंगे
शराब का सहारा कर लेंगे
शेखर सिंह
संगठन
संगठन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तुमसा तो कान्हा कोई
तुमसा तो कान्हा कोई
Harminder Kaur
ना जाने
ना जाने
SHAMA PARVEEN
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
आर.एस. 'प्रीतम'
*शब्द*
*शब्द*
Sûrëkhâ
साइस और संस्कृति
साइस और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
"दरवाजा"
Dr. Kishan tandon kranti
सुबह-सुबह की लालिमा
सुबह-सुबह की लालिमा
Neeraj Agarwal
दोस्त अब थकने लगे है
दोस्त अब थकने लगे है
पूर्वार्थ
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
ruby kumari
त्याग
त्याग
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
गिला,रंजिशे नाराजगी, होश मैं सब रखते है ,
गिला,रंजिशे नाराजगी, होश मैं सब रखते है ,
गुप्तरत्न
मंहगाई, भ्रष्टाचार,
मंहगाई, भ्रष्टाचार,
*प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रक्षा बन्धन पर्व ये,
रक्षा बन्धन पर्व ये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पाप का जब भरता है घड़ा
पाप का जब भरता है घड़ा
Paras Nath Jha
अगर आप सही हैं, तो आपके साथ सही ही होगा।
अगर आप सही हैं, तो आपके साथ सही ही होगा।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लोग जीते जी भी तो
लोग जीते जी भी तो
Dr fauzia Naseem shad
छिपी रहती है दिल की गहराइयों में ख़्वाहिशें,
छिपी रहती है दिल की गहराइयों में ख़्वाहिशें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*हे हनुमंत प्रणाम : सुंदरकांड से प्रेरित आठ दोहे*
*हे हनुमंत प्रणाम : सुंदरकांड से प्रेरित आठ दोहे*
Ravi Prakash
"लाभ का लोभ"
पंकज कुमार कर्ण
कैसे निभाऍं उसको, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उसको, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...